Jan Sandesh Online hindi news website

उत्तर प्रदेश संस्कृत संस्थान द्वारा निःशुल्क सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी हेतु कार्यक्रम संचालित

0

लखनऊ, दिनांकः 19 मार्च, 2021

और पढ़ें
1 of 615

उत्तर प्रदेश संस्कृत संस्थान ने प्रशासनिक सेवाओं में संस्कृत साहित्य की सहभागिता बढ़ाने और संस्कृत विषय को रोजगार उन्मुख बनाने के उद्देश्य से वर्ष 2019 में प्रारम्भ की गयी उत्तर प्रदेश संस्कृत संस्थानम् की फ्लैगशिप योजनाओं में से संस्कृत साहित्य विषय लेकर सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी करने के लिए निःशुल्क कोचिंग की सुविधा दी जा रही है, जिसके अन्तर्गत 10 माह के प्रशिक्षण कार्यक्रम में प्रारम्भिक एवं मुख्य परीक्षा सहित साक्षात्कार की तैयारी करायी जाती है।
उत्तर प्रदेश संस्कृत संस्थान से प्राप्त जानकारी के अनुसार सिविल सेवा परीक्षा में संस्कृत साहित्य की सहभागिता को बढ़ाने के उद्देश्य से संस्थान डिजिटल प्लेटफाॅर्म की तैयारी कर रही है, जिसके अन्तर्गत वर्तमान अध्ययनरत् विद्यार्थी और प्रदेश के अन्य जिलों के विद्यार्थियों को ‘‘एप्स’’ के माध्यम से जोड़ा जा सकेगा, इसके साथ ही संस्कृत साहित्य की पाठ्य सामग्री डिजिटल उपलब्ध करायी जायेगी और सामान्य अध्ययन तथा संस्कृत साहित्य के वीडियो लेक्चर की श्रृंखला तैयार की जा रही है ताकि दूरस्थ बैठे प्रतियोगी भी आज के डिजिटल युग में उसका लाभ ले सकें।
संस्कृत संस्थान से प्राप्त जानकारी के अनुसार कार्यक्रम का विस्तार करते हुए गोरखपुर विश्वविद्यालय के संस्कृत संकाय में संचालित सिविल सेवा प्रशिक्षण कार्यक्रम को लखनऊ केन्द्र से लाइव प्रसारण से सम्बद्ध कर दिया गया है और लखनऊ केन्द्र से गोरखपुर के विद्यार्थियों को संस्कृत साहित्य एवं सामान्य अध्ययन की कक्षाएं दी जा रही हैं। संस्थान अपने प्रशिक्षण कार्यक्रम में दिल्ली विश्वविद्यालय के वरिष्ठ शिक्षकों से गूगल मीट से कक्षाएं संचालित कर रहा है।
संस्थान के द्वारा एक वर्ष के दौरान ही प्रारम्भ किये गये कार्यक्रम में उल्लेखनीय सफलता अर्जित की गयी है, साथ-ही-साथ अन्य राज्यों की प्रशासनिक सेवाओं और अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं में भी संस्थान के विद्यार्थी अंतिम रूप से चयनित हुए हैं। प्रशिक्षण कार्यक्रम को प्रभावी बनाने के लिए लखनऊ, प्रयागराज, दिल्ली, हैदराबाद के विषय विशेषज्ञों को आमंत्रित किया जाता है। संस्थान के प्रशिक्षण कार्यक्रम को प्रभावशाली बनाने के लिए देश के ख्यातिलब्ध विशेषज्ञों द्वारा पाठ्य सामग्री और टेस्ट पेपर तैयार किये जाते हैं।
प्रदेश भर में विभिन्न माध्यमों से प्रचार करते हुए अभ्यार्थियों से संस्कृत साहित्य लेकर सिविल सेवा तैयारी हेतु आॅनलाइन आवेदन पत्र आमंत्रित किये जाते हैं। आवेदन पत्रों के आधार पर प्रदेश स्तर पर प्रवेश परीक्षा करायी जाती है, जिसमें सामान्य अध्ययन, समसामयिकी घटनाक्रम सहित संस्कृत साहित्य पर प्रश्न पूछे जाते हैं। प्रवेश परीक्षा में उत्तीर्ण होने के बाद श्रेष्ठता सूची के आधार पर अभ्यर्थियों का साक्षात्कार लेने हेतु संस्कृत साहित्य विशेषज्ञ, वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी और सामान्य अध्ययन के विशेषज्ञों का पैनल बनाया जाता है। साक्षात्कार के उपरान्त अभ्यर्थियों का अंतिम रूप से प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए चयन किया जाता है।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह [email protected] पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comment section

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.