Jan Sandesh Online hindi news website

FIR दर्ज होते ही हुए भूमिगत, नाबालिग को गोद में बिठाकर किया धत्तकरम CCL के सेवानिवृत्त जीएम ने

0

धनबाद/बरवाअड्डा। सेंट्रल कोलफिल्ड लिमिटेड (CCL) बेरमो से सेवानिवृत्त जीएम वीरेंद्र कुमार सिंह पर बरवाअड्डा थाना में नाबालिग से छेड़खानी करने के आरोप में पॉक्सो एक्ट के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है। उनपर मेमको मोड़ क्षेत्र की एक महिला ने अपनी 12 वर्षीय पुत्री के साथ छेड़खानी करने का आरोप लगाया है। पीडि़त बच्ची की मां ने थाने में दर्ज कराई गई प्राथमिकी में बताया है कि दिसंबर माह में वीरेंद्र कुमार सिंह के पास ही में रिश्तेदार की पुत्री की शादी में शामिल होने आए थे। परिचित होने के कारण वे हमारे घर भी आए। उस वक्त वो शराब पीए हुए थे। घर आने पर मैं उनके लिए चाय-नाश्ता बनाने रसोई में चली गई। नाश्ता लेकर पहुंची तो देखा बेटी डरी-सहमी रो रही थी। तब पूछने पर बच्ची ने कुछ नहीं बताया।

और पढ़ें
1 of 185

पीड़िता का 164 के तहत बयान दर्ज

18 फरवरी को लड़की ने पूरी घटना से परिवार वालों को अवगत कराया। उसने बताया कि वीरेंद्र कुमार सिंंह ने उसे अपनी गोद में बैठाकर गलत काम किया। रोने पर धमकी दी कि किसी को बताई तो जान मार देंगे। तब 18 फरवरी को ऑनलाइन प्राथमिकी दर्ज करायी गई और इसके बाद सात मार्च को बरवाड्डा थाना में प्राथमिकी दर्ज कराने को लेकर आवेदन दिया गया। आरोपित वर्तमान में रांची में रह रहे हैं। उनका सरायढेला क्षेत्र के मुरली नगर में आवास है। महिला के आवेदन पर बरवाअड्डा पुलिस ने वीरेंद्र कुमार सिंह के खिलाफ पॉक्सो एक्ट में मामला दर्ज किया है। बरवाअड्डा पुलिस ने पीडि़ता का न्यायालय में 164 का बयान दर्ज करा दिया है।

प्राथमिकी दर्ज होने के बाद भूमिगत हुए सेवानिवृत्त जीएम

प्राथमिकी दर्ज होने के बाद सेवानिवृत्त जीएम भूमिगत हो गए हैं। इस मामले में पुलिस ने तलाश शुरू कर दी है। धनबाद के साथ ही विरेंद्र सिंह का रांची में भी आवास है। वे ज्यादातर समय रांची में ही रहते हैं। उन्हें गिरफ्तार करने के लिए बरवाअड्डा थाना की पुलिस जल्द ही रांची जाएगी।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह [email protected] पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comment section

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.