Jan Sandesh Online hindi news website

संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा मानाई गई भगत सिंह की शहादत दिवस

0

( बलिया ) संयुक्त किसान मोर्चा,बलिया के द्वारा, भगत सिंह की शहादत दिवस मनाया गया।वक्ताओं ने कहा किआज भगत सिंह के अरमानों पर शासन पानी फेरने का काम कर रहा है।भगत सिंह ने जाति व धर्मों से ऊपर मानवता के लिए काम करते थे।इसके उलट मोदी सरकार मानव को मानव से, किसानों को किसानों से, मजदूरों से मजदूरों को, छात्रों को छात्रों से लड़ाने का काम कर रही है जिससे उन्हें उनकी समस्याओं से ध्यान भटकाना है।देश का किसान कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक एम एस पी को कानूनी रूप देने, विवादास्पद कृषि बिलों को वापस लेने की मांग को आंदोलित है।सरकार उनकी अनसुनी कर रही है।वक्ताओं ने कहा कि भगत सिंह ने कहा था कि बहरे कानों को सुनाने के लिए धमाके की आवाज की जरूरत होती है।

और पढ़ें
1 of 18

उनके कथन हिंसात्मक कृत्य को समर्थन नहीं करता बल्कि वे कहते हैं कि क्रान्ति की तलवार विचारों के शान पर तेज होती है।उनका कहना था कि बिना किसानों के कोई क्रांति नही हो सकती।उनके चाचा अजित सिंह ने किसानों को जगाते हुए कहा कि किसानों तेरा माल लूटा जाय रे।पुनः किसानों को ललकारते हुए कहा कि, पगड़ी संभाल जट्टा।आज वही नारा किसान आंदोलनों में गूंज रहा है।इस कार्यक्रम में जनार्दन सिंह, अवधेश सिंह, रविन्द्र सिंह, अशोक कुमार पांडेय, अवध नारायण सिंह, संतोष सिंह,परमात्मा नन्द राय,बलवन्त यादव,रघुवंश उपाध्याय, विजयशंकर,कृष्णदेव सिंह,राजेन्द्र,विक्रमा दीन्ह,रामकृष्ण यादव,आदि ने सभा को संबोधित किया।अध्यक्षता,सत्यप्रकाश सिंह व संचालन जनार्दन सिंह ने किया।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह [email protected] पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comment section

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.