Jan Sandesh Online hindi news website

पुलिस के साथ धक्का-मुक्की, भर्ती की मांग पर बेरोजगारों ने किया सचिवालय कूच

0

देहरादून। उत्तराखंड के विभिन्न विभागों में खाली पड़े तकनीकी संवर्ग के पदों पर भर्ती की मांग को लेकर बेरोजगारों ने सचिवालय कूच किया। इस दौरान सचिवालय गेट पर पुलिस के साथ उनकी धक्का-मुक्की भी हुई। बाद में बेरोजगारों के प्रतिनिधिमंडल ने अपर मुख्य सचिव राधा रतूड़ी को अपना ज्ञापन सौंपकर जल्द से जल्द रिक्त पदों पर भर्ती करने की मांग की। बेरोजगारों का कहना है कि जब तक भर्ती प्रक्रिया शुरू नहीं होती वे धरना स्थल पर अपना विरोध जारी रखेंगे।

और पढ़ें
1 of 259

गुरुवार को इंजीनियरिंग समिति उत्तराखंड के बैनर तले तकनीकी शिक्षा लेने के बाद भी बेरोजगार घूम रहे प्रदेशभर के युवा परेड ग्राउंड में एकत्रित हुए। सुबह करीब दस बजे युवाओं ने सचिवालय कूच शुरू किया। कनक चौक, सुभाष रोड़ से होते हुए सचिवालय के बाहर पहुंचे बेरोजगारों को पुलिस ने बैरिकेडिंग लगाकर रोक लिया। बेरोजगारों ने पुलिस से संघर्ष कर और आगे बढ़ने की कोशिश भी की, लेकिन पुलिस ने इन्हें आगे नहीं बढ़ने दिया। करीब शाम साढ़े चार बजे तक बेरोजगारों ने यहीं बैठकर अपना विरोध जताते हुए सरकार के खिलाफ नारेबाजी की।

समिति के सचिव संदीप उनियाल ने कहा कि पूर्व में नौ मार्च को भी उन्होंने रैली निकाल कर रिक्त पदों पर भर्ती प्रक्रिया शुरू करने की मांग की थी, लेकिन अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई, इसीलिए युवा दोबारा विरोध जताने को मजबूर हुए। उन्होंने कहा कि यूकेपीएससी द्वारा संयुक्त कनिष्ठ अभियंता व सहायक अभियंता पद पर 2014 से भर्ती नहीं हो सकी।

उन्होंने यूजेवीएनएल, यूपीसीएल, पिटकुल और आइटीआइ के सभी पदों पर भर्ती प्रक्रिया शुरू करने की मांग की। बेरोजगारों ने कहा कि भर्ती प्रक्रिया शुरू होने तक अब युवा धरना स्थल पर अपना विरोध जारी रखेंगे। विरोध जताने वालों में पुरुषोत्तम सिंह, कमलेश, प्रशांत भट्ट, आशीष रमोला, अनिल बिष्ट, जितेंद्र रावत, रिजवान, दीपिका उनियाल, लक्ष्मी, शोबित चौधरी समेत अन्य लोग मौजूद रहे।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह [email protected] पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comment section

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.