Jan Sandesh Online hindi news website

पुलिसकर्मी 24 घंटे पीपीई किट में तैनात रहेंगे, अब हर पुलिस लाइन में होगा कोविड अस्पताल

0

लखनऊ। कोरोना संक्रमण के दौरान लोगों की मदद से लेकर सुरक्षा-व्यवस्था के मोर्चे पर डटी पुलिस ने अपनों को इस खतरे से दूर रखने के लिए भी एक बार फिर से कड़े कदम उठाने शुरू कर दिए हैं। डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी ने कोरोना से बचाव को लेकर कई कड़े कदम उठाने के निर्देश दिए हैं।

और पढ़ें
1 of 347

एडीजी कानून-व्यवस्था प्रशांत कुमार का कहना है कि हर पुलिस लाइन में पर्याप्त संख्या के बेड वाला कोविड अस्पताल स्थापित किए जाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। इन अस्पतालों में चिकित्सकों व नर्सिंग स्टाफ के साथ पीपीई किट पहनकर प्रशिक्षित पुलिसकर्मी 24 घंटे तैनात रहेंगे। इन कोविड अस्पतालों में संक्रमित पुलिसकर्मियों का इलाज होगा। कई जिलों में यह अस्पताल वजूद में हैं और वहां कोरोना संक्रमित पुलिसकर्मियों का समुचित इलाज कराया जा रहा है। एडीजी ने बताया कि जो पुलिसकर्मी अवकाश से अथवा ड्यूटी से बाहर से वापस आ रहे हैं, उन्हें कोविड केयर सेंटर में प्रशिक्षण के बाद ही कार्य करने की अनुमति दी जाएगी।

पुलिस विभाग की सभी इकाइयों व कार्यालयों में पूर्व ही तरह कोविड केयर सेंटर बनाने के निर्देश भी दिए गए हैं। पुलिस लाइन के कोविड अस्पतालों के लिए सभी जरूरी संसाधन उपलब्ध कराए जा रहे हैं। कोविड केयर सेंटर में भी प्रशिक्षित पुलिसकर्मियों को जरूरी मेडिकल उपकरणों के साथ तैनात किया जाएगा। सभी पुलिस लाइन में बाहर से सब्जी व अन्य सामान बेचने आने वालों पर रोक रहेगी। पुलिस लाइन परिसर के अंदर ही खाने-पीने के सामान की व्यवस्था की जाएगी। पुलिस लाइन, पीएसी वाहिनियों व प्रशिक्षण इकाइयों में मौजूद समय में स्वस्थ पुलिसकर्मियों का डेटाबेस भी तैयार किया जा रहा है, जिनको भविष्य में किसी आपात स्थिति के लिए रिजर्व में रखा जाएगा। पुलिस लाइन, थाने व पुलिस कार्यालयों का सिर्फ एक गेट को खोलने का निर्देश भी दिया गया है, जिससे हर आने वाले की थर्मल स्कैङ्क्षनग के बाद ही उसका प्रवेश सुनिश्चित कराया जा सके।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Comment section

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.