Jansandesh online hindi news

Modi hai to Zinda ho का नारा देने वाले BJP नेता घिरे विवादों में

 | 
Image

 

डेस्क। भारतीय जनता पार्टी के एक विधायक ने बीजेपी का नारा ‘मोदी है तो मुमकिन’ है को बदल कर Modi hai to Zinda ho कर दिया है। बिहार के बीजेपी के विधायक और नीतीश सरकार में मंत्री रामसूरत राय ने ये नारा है,’मोदी है तो जिंदा हो'दिया है। 

बिहार सरकार के मंत्री रामसूरत राय मुजफ्फर नगर की औराई विधानसभा में एक जनसभा को संबोधित कर रहे थे जिस दौरान उन्होंने ये नारा दिया। उन्होंने जनसभा में आए लोगों से कह दिया कि ‘अगर आप लोग जिंदा हैं तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की वजह से।’

बता दें कि राम सूरत राय बिहार सरकार में बीजेपी कोटे से राजस्‍व एवं भूमि सुधार विभाग के मंत्री हैं। औराई विधानसभा से बीजेपी के टिकट पर विधानसभा आने वाले रामसूरत राय ने जनसभा को संबोधित करते हुए बिहार में कोरोना संक्रमण तर्ज पर यह नारा दिया है। राय ने कहा यहां मौजूद सभी लोगों से कहा है कि आप लोगों को कोरोना काल तो याद ही होगा। जिस समय पूरी दुनिया में लोग भारी संख्या में मर रहे थे।

मंत्री ने अपने बयान में कहा, ‘पूरी दुनिया में कोरोना काल बहुत ही घातक महामारी रही। भारत भी इस महामारी से अछूता नहीं था वह तो भारत में भी कोरोना से बहुत मौते हुईं थीं। पड़ोसी देशों का हाल भी हम सब ने टीवी पर देख रखा था। यहां आए हुए लोगों(यानी जनसभा में मौजूद) में से कौन ऐसा है जिसके रिश्तेदारों में से किसी न किसी की कोरोना से मौत न हुई हो। उन्होंने कहा कि मेरे भी कई रिश्तेदारों की जान कोरोना संक्रमण के कारण गई। पर इस दौरान हमारे देश के पीएम नरेंद्र मोदी जी सभी को मुफ्त में टीकाकरण कराया।’

इसके बाद उन्होंने यह नारा दिया कि मोदी है तो जिंदा हो।

बता दें कि मुजफ्फरपुर की औराई विधानसभा में दो दिवसीय प्रवास कार्यक्रम आयोजित किया गया था। इस कार्यक्रम के दौरान शुक्रवार को हैदराबाद से आए बीजेपी के एससी, एसटी मोर्चा के राष्ट्रीय मंत्री एस कुमार बतौर अतिथि आए हुए थे। उनके अलावा इस कार्यक्रम में राष्ट्रीय कार्यसमिति सदस्य कपिल कुमार, सीताराम रवि और संजीव कुमार के साथ कई और नेता भी मौजूद रहे। 

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।