गुजरात जीत के लिए कितने सही केजरीवाल के दावे- पढ़े रिपोर्ट

जनसंदेश ऑनलाइन ताजा हिंदी ख़बरें सबसे अलग आपके लिए

  1. Home
  2. राजनीति

गुजरात जीत के लिए कितने सही केजरीवाल के दावे- पढ़े रिपोर्ट

गुजरात जीत के लिए कितने सही केजरीवाल के दावे- पढ़े रिपोर्ट


राजनीति- गुजरात मे एक दिसम्बर और पांच दिसम्बर को मतदान होगा। पक्ष विपक्ष लगातार इस कोशिश में लगे हैं कि वह क्या करे की गुजारात की जनता का दिल जीत सके। वही अगर हम बात बीजेपी की करे तो बीते 30 साल से बीजेपी गुजरात मे राज कर रही है।
गुजरात की जनता ने बीजेपी को खूब प्यार दिया है। लेकिन कांग्रेस को भी गुजरात की जनता खूब पसंद करती है। लोग कांग्रेस के समर्थन में दिखाई देते हैं और गुजरात मे अगर कोई बीजेपी को कांटे की टक्कर देता है तो वह है कांग्रेस। 
परन्तु इस बार कांग्रेस बीजेपी के बीच एक नया खिलाड़ी आ गया है। आम आदमी पार्टी। आप का दावा है की अभी तक गुजरात के पास बीजेपी से बेहतर विकल्प नही था। इसलिए जनता बीजेपी और कांग्रेस के समर्थन में खड़ी थी। लेकिन अब बीजेपी और कांग्रेस को छोड़कर जनता आप को देख रही है। यह आप के लिए बेहतर परिणाम साबित होगा और गुजरात में आप की जीत होगी।

कितने सही केजरीवाल के दावे समझे रिपोर्ट से-

अरविंद केजरीवाल बार बार यह दावा कर रहे हैं। कि गुजरात की जनता उनके साथ है। लेकिन यदि हम गुजरात का ग्राउंड लेवल देखे तो उसकी जुबान आज भी कांग्रेस और बीजेपी का नाम बोल रही है। लोगो का कहना है कि अगर हम गुजरात मे किसी नए व्यक्ति को मौका देते हैं तो क्या गारंटी है कि वह हमारे लिए बेहतर करगे।
लेकिन बीजेपी और कांग्रेस का सालों से गुजरात से जुड़ाव है। यह दोनो दल यदि नही भी चाहेगे तब भी गुजरात का भला करेगे। क्योंकि कोई भी व्यक्ति अपना घर खराब होते नहीं देख सकता और कांग्रेस व बीजेपी के लिए गुजरात उनके घर जैसा ही है। वही यहां की जनता का उन्हें समर्थन मिलता है क्योंकि जनता उन्हें अपना समझती है।

मोरबी घटना पर क्या है परिपेक्ष्य-

लोगो ने कहा यह एक घटना थी। होनी को कोई नही टाल सकता। अब इसका राजनीतिकरण करना अनुचित है। लोगो की जान गई है लेकिन विपक्ष अपनी हरकतों से बाज नही आ रहा है। वह आपदा में भी अवसर तलाश रहा है। विपक्ष बार बार दावा कर रहा है कि यह भ्रष्टाचार का नतीजा है। हो सकता है यह भ्रष्टाचार हो लेकिन इसपर अपना रजनीतिक स्वार्थ साधना गलत है। 

राहुल को लेकर क्या बोले लोग-

राहुल गांधी जमीनी नेता हैं। उन्होंने अपनी दादी की तरह लोगो से भावनात्मक जुड़ना सीखा है। कांग्रेस हमेशा से जानती है कि वह जमीन स्तर से ही ऊपर उठ सकती है। इस बार कांग्रेस की छवि बेहतर नजर आ रही है। भारत जोड़ो यात्रा का कही न कही सकारात्मक प्रभाव लोगो पर देखने को मिल रहा है। चुनाव में यह जरूर कांग्रेस के लिए ब्रह्मस्त साबित होगा।
Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

और पढ़ें -

राष्ट्रीय

उत्तर प्रदेश