हिमाचल में इस बार रचा जाएगा यूपी , उत्तराखंड की तरह इतिहास

जनसंदेश ऑनलाइन ताजा हिंदी ख़बरें सबसे अलग आपके लिए

  1. Home
  2. राजनीति

हिमाचल में इस बार रचा जाएगा यूपी , उत्तराखंड की तरह इतिहास

JP nadda


भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा का कहना है कि हिमाचल प्रदेश के मतदाता भी इस बार यूपी, उत्तराखंड, गोवा व मणिपुर की तरह इतिहास रचने जा रहे हैं। वहां राज नहीं, रिवाज बदलने जा रहा है। उनका दावा है कि हिमाचल में भाजपा की जयराम ठाकुर सरकार इस बार भी सत्ता में आएगी। 
भाजपा अध्यक्ष नड्डा ने विशेष बातचीत में हिमाचल व गुजरात के प्रतिष्ठापूर्ण चुनाव, महंगाई, बेरोजगारी व समान नागरिक संहिता सहित कई मुद्दों पर खुलकर जवाब दिए। नड्डा ने कहा, भाजपा किसी दुविधा में नहीं हैं। गुजरात में चुनाव का सातवां द्वार भी फतह करेगी। पार्टी अपने मुख्यमंत्रियों के चेहरे पर ही मैदान में है। सत्ता में आने पर हिमाचल में जयराम ठाकुर और गुजरात में भूपेंद्र पटेल ही मुख्यमंत्री बनेंगे। 
महंगाई-बेरोजगारी पर सरकार संवेदनशील 
नड्डा ने कहा, हम मुद्रास्फीति की दर को नीचे रख पाए हैं और विकास के लिए जुटे हैं। जनता जानती है कि भाजपा सरकार महंगाई के प्रति संवेदनशील होती है। जैसे ही स्थिति बनी, भाजपा की केंद्र व राज्य की सरकारों ने पेट्रोल-डीजल व गैस के दाम घटाए। पर, राजस्थान की गहलोत सरकार, छत्तीसगढ़ की बघेल सरकार व महाराष्ट्र में जब तक उद्धव ठाकरे सरकार में रहे, क्या किया? विपक्ष केवल घड़ियाली आंसू बहाता है।

तो तरक्की पर पड़ता है असर;-

भाजपा अध्यक्ष ने कहा, डबल इंजन की सरकार न होने से राज्य की तरक्की पर फर्क पड़ता है। हिमाचल में रेल लाइन अटलजी के वक्त बननी शुरू हुई थी। लेकिन, कांग्रेस सरकार आने के बाद कोई प्रगति नहीं हुई। फिर मोदी पीएम बने तो 4 वर्ष में 10 किमी का टनल बन गया।
नड्डा ने कहा, पहले एंटी इनकंबेंसी यानी सत्ता विरोधी लहर की बात होती थी। जब से मोदी सत्ता में आए हैं, ‘प्रो इनकंबेंसी’ की बात होती है। भाजपा सरकारें जहां एक बार जीतती हैं, दिन-रात काम करती हैं। फिर जनता हर चुनाव में उसे जिताने लगती है। 
Note - यह खबर अमर उजाला से ली गई है। टीम ने इसमे हेडलाइन में अलावा कोई एडिटिंग नही की है।
Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

और पढ़ें -

राष्ट्रीय

उत्तर प्रदेश