Budget 2023 :जानें क्या है बजट और आदर्श बजट

जनसंदेश ऑनलाइन ताजा हिंदी ख़बरें सबसे अलग आपके लिए

  1. Home
  2. बिज़नेस

Budget 2023 :जानें क्या है बजट और आदर्श बजट

Budget 2023 :जानें क्या है बजट और आदर्श बजट


देश- साल 2023 के लिए 1 फरवरी को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा बजट पेश किया जाएगा। हर ओर इस बार के बजट की चर्चा हो रही है। लोग कयास लगाए बैठे हैं कि इस बार का बजट उनके लिए राहत लेकर आएगा। 
वहीं विशेषज्ञ यह उम्मीद जता रहे हैं कि बजट आम आदमी को केंद्र में रखकर पेश किया जाएगा। वहीं इस बार का बजट किसानों और केंद्र कर्मचारियों को काफी राहत देगा। लेकिन इस सबके बीच एक सवाल सबसे ज्यादा उठ रहा है कि आखिर यह बजट है क्या और इसकी आवश्यकता क्या है। 

जानें क्या है बजट- 

अगर हम बजट की बात करें तो यह भविष्य में किए जाने वाले कार्यो के लिए पूर्व से बनाई गई योजना है। बजट के माध्यम से हम पूरे वर्ष होने वाले खर्ज और राजस्व का अनुमान लगाते हैं। इसके साथ ही किन किन योजनाओं पर हम काम करेंगे यह लोगों के सम्मुख प्रस्तुत करते हैं। 

जानें क्या है आदर्श बजट-

जब हम आदर्श बजट की बात करते हैं। तो इसका तात्पर्य बिना किसी स्वार्थ के सभी के हित पर ध्यान केंद्रित करना होता है। यह स्वार्थ रहित होता है और इसका उद्देश्य सभी को लाभ देने होता है।

भारतीय संविधान के मुताबिक बजट क्या है-

संविधान के अनुछेद (Artical) 112 के अनुसार बजट- राष्ट्रपति प्रत्येक वित्तीय वर्ष के दौरान ,संसद के दोनों सदनों के समक्ष वार्षिक वित्तीय विवरण रखवाते है, जिसमे सरकार के गत वर्ष के आय/प्राप्तियों व व्ययों का ब्योरा होता है। जिसे हम साधारण भाषा मे बजट कहते हैं।

बजट का उद्देश्य-

बजट का उद्देश्य विकास को गति देना और किसी कार्य को करने के लिए पूर्व से रणनीति बनना है। यह आर्थिक विकास को सुधारने, रोजगार को बढ़ावा देने, असमानताओं को दूर करने के लिए योजना निर्माण, बाजर की स्थिति सुधारना व अन्य कई कार्यो को एक प्रारूप में व्यवस्थित कर करना होता है।

बजट से लाभ-

बजट से हमें यह पता चलता है कि किस क्षेत्र में हमें कितना धन व्यव करना है और किस क्षेत्र को अभी विकास और सुधार की आवश्यकता है। यह पूरे साल का लेखा जोखा कर सरकारी काम को व्यवस्थित ढंग से करने की सुद्रण विधि होती है। साल 2016 तक बजट फरवरी महीने के अंत मे प्रस्तुत किया जाता था। लेकिन 2017 से बजट हर साल 1 फरवरी को प्रस्तुत किया जाने लगा।

और पढ़ें -

राष्ट्रीय

उत्तर प्रदेश