General Provident Fund के बदल गए नियम

जनसंदेश ऑनलाइन ताजा हिंदी ख़बरें सबसे अलग आपके लिए

  1. Home
  2. बिज़नेस

General Provident Fund के बदल गए नियम

General Provident Fund के बदल गए नियम


बिजनेस- General Provident Fund में नियमो में परिवर्तन किया गया है। वही अब इस नए बदलाव के साथ सरकारी कर्मचारी General Provident Fund में महज 5 लाख तक का निवेश कर पाएंगे।
यह वैसे तो PPF जैसी स्कीम है। लेकिन इस स्कीम का लाभ सिर्फ सरकारी कर्मचारी ही उठा सकते हैं। नए बदलाव के परिपेक्ष्य में डिपार्टमेंट ऑफ पेंशन एंड पेंशनर्स वेल्फेयर (DoPPW) ने 11 अक्टूबर 2022 को एक ऑफिस मेमोरेंडम जारी कर कहा था कि जनरल प्रोविडेंट फंड (सेंट्रल सर्विस) नियम 1960 के अनुसार, एक सबस्क्राइबर के संबंध में GPF कुल मेहनताने (Emoluments) के 6 फीसदी से कम नहीं होना चाहिए. यानी तब इस पर ऊपरी सीमा निर्धारित नहीं थी, लेकिन अब इस नियम में बदलाव हो गया है।
जीपीएफ पर सरकार खाताधारकों को फिलहाल 7.1 फीसदी का ब्याज ऑफर करती है. इसे पेंशनभोगी कल्याण विभाग, कार्मिक मंत्रालय, लोक शिकायत और पेंशन के अंतर्गत मैनेज किया जाता है।
GPF भी एक तरह का भविष्य निधि (PF) खाता है, जो सभी कर्मचारियों के लिए नहीं होता है. दरअसल, जीपीएफ का लाभ सिर्फ सरकारी कर्मचारियों को मिलता है.
इसके लिए सरकारी कर्मचारियों को अपने वेतन का एक निश्चित भाग जीपीएफ में योगदान करना होता है. सरकारी कर्मचारियों को इसमें योगदान करना अनिवार्य है। यह राशि रिटायरमेंट पर आपको वापस मिलती है।
Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

और पढ़ें -

राष्ट्रीय

उत्तर प्रदेश