Jansandesh online hindi news

जांच एजेंसी ने जब्त किया व्यापारी का हेलीकॉप्टर, जानिए पूरा मामला

 | 
Image

 

डेस्क। महाराष्ट्र के पुणे से व्यवसायी अविनाश भोंसले के घर से केंद्रीय जांच एजेंसी सीबीआई ने एक अगस्तावेस्टलैंड हेलीकॉप्टर जब्त कर लिया है। 

 

सीबीआई ने व्यवसायी के घर पर छापेमारी की थी और इस दौरान घर के अंदर अगस्तावेस्टलैंड हेलीकॉप्टर खड़ा मिला, जिसे सीबीआई ने अब जब्त कर लिया है। बता दें व्यापारी अविनाश भोंसले पहले से ही 34 हजार करोड़ के बैंक फ्रॉड मामले में गिरफ्तार हैं यह डीएचएफएल का बैंक घोटाला अब तक का सबसे बड़ा घोटाला माना जाता है।

 

बता दें कि यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया की शिकायत के चलते 20 जून को सीबीआई ने धोखाधड़ी मामले में डीएचएफएल के वाधवान बंधुओं और अन्य के खिलाफ यह मामला दर्ज किया था जिसपर कार्यवाही जारी है। इन पर आरोप है कि डीएचएफएल के फर्जी खातों में 34,615 करोड़ रुपए की हेराफेरी की गई है और यह हेराफेरी यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया के नेतृत्व वाले 17 बैंकों के साथ हुई है।

 

इनपर आरोप है कि दीवान हाउसिंग फाइनेंस कॉर्पोरेशन लिमिटेड (डीएचएफएल) के तत्कालीन मुख्य प्रबंध निदेशक कपिल वधावन के साथ ही तत्कालीन निदेशक धीरज वधावन और व्यवसायी सुधाकर शेट्टी एवं अन्य आरोपियों ने यूनियन बैंक ऑफ इंडिया के नेतृत्व वाले 17 बैंकों के संघ को धोखा देने की शाजिस रची है।

 

इसके साथ ही सीबीआई का यह भी आरोप है कि अविनाश भोसले की कंपनियों ने 2018 में डीएचएफएल से करीब 69 करोड़ रुपए कमीशन के तौर पर लिए थे। इसे कंसल्टेंसी सर्विसेज के लिए लिया गया चार्ज लेना वाला बताया गया है। 

 

मामले को लेकर सोमवार को ही यस बैंक-डीएचएफएल लोन फ्रॉड मामले में सीबीआई ने एक चार्जशीट दाखिल की थी और इस चार्जशीट में अविनाश भोंसले और सत्येंद्र टंडन का नाम आया था।

बता दें कि अविनाश भोसले को पहले सीबीआई ने गिरफ्तार किया, लेकिन बाद में ईडी द्वारा उनकी गिरफ्तारी के बाद उन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया और सीबीआई की चार्जशीट में कई कंपनियों को आरोपी बनाया गया। आपको यह भी बता दें कि जून 2021 में रिजर्व बैंक ने भी डीएचएफएल पर कार्रवाई करी थी।

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।