Jansandesh online hindi news

Coronavirus Drug: कोविड के मरीजों के इलाज की सबसे सस्ती दवा Molnupiravir,अगले सप्ताह से मार्केट में मिलने लगेगी

कोविड-19 के इलाज के लिए मॉलफ्लू (मोलनुपीराविर) दवा को 35 रुपये प्रति कैप्सूल के दाम पर उतारेगी। हैदराबाद स्थित कंपनी ने मंगलवार को कहा कि मॉलफ्लू का एक पत्ता 10 कैप्सूल का होगा। पांच दिन में 40 कैप्सूल के पूरे ‘कोर्स’ पर 1,400 रुपये की लागत बैठेगी। कंपनी के प्रवक्ता ने कहा कि यह कोविड-19 के मरीजों के लिए इलाज का सबसे सस्ता विकल्प होगा।
 | 
Coronavirus Drug: कोविड के मरीजों के इलाज की सबसे सस्ती दवा Molnupiravir,अगले सप्ताह से मार्केट में मिलने लगेगी

नई दिल्ली । दवा निर्माता डॉ. रेड्डीज लैबोरेटरीज (Dr. Reddy's Laboratories) भारत में कोविड-19 के इलाज के लिए मॉलफ्लू (मोलनुपीराविर) दवा को 35 रुपये प्रति कैप्सूल के दाम पर उतारेगी। हैदराबाद स्थित कंपनी ने मंगलवार को कहा कि मॉलफ्लू का एक पत्ता 10 कैप्सूल का होगा। पांच दिन में 40 कैप्सूल के पूरे ‘कोर्स’ पर 1,400 रुपये की लागत बैठेगी। कंपनी के प्रवक्ता ने कहा कि यह कोविड-19 के मरीजों के लिए इलाज का सबसे सस्ता विकल्प होगा।

कंपनी ने कहा है कि मॉलफ्लू अगले सप्ताह की शुरुआत से देश भर के बाजारों में उपलब्ध होगी। प्रवक्ता ने कहा, ‘‘हमारा मुख्य ध्यान उन राज्यों पर है जहां संक्रमण की दर तेज है।’’ डॉ. रेड्डीज ने पिछले साल भारत के लिए मोलनुपीराविर (Molnupiravir) के विनिर्माण और आपूर्ति के लिए Merck Sharp & Dohme (MSD) के साथ गैर-विशिष्ट स्वैच्छिक लाइसेंसिंग करार किया था। इसके तहत निम्न और मध्यम आय वर्ग वाले करीब 100 देशों में इस दवा की आपूर्ति की जाएगी।

भारत में कोविड के उपचार के लिए दवा मोलनुपीराविर के आपात स्थिति में नियंत्रित उपयोग को मंजूरी मिल चुकी है। आपात स्थिति में दवा का उपयोग कोविड-19 के वयस्क मरीजों पर ‘एसपीओ2’ 93 प्रतिशत के साथ किया जा सकेगा और उन मरीजों को यह दवा दी जा सकेगी, जिनको बीमारी से बहुत ज्यादा खतरा हो। मोलनुपीराविर की खोजकर्ता कंपनी Merck & Co. है। अमेरिका व कनाडा के बाहर कंपनी Merck Sharp & Dohme (MSD) के नाम से कारोबार करती है।

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।