कोवोवेक्स और कोविशील्ड में बूस्टर की दौड़

जनसंदेश ऑनलाइन ताजा हिंदी ख़बरें सबसे अलग आपके लिए

  1. Home
  2. स्वास्थ/लाइफस्टाइल

कोवोवेक्स और कोविशील्ड में बूस्टर की दौड़

Image


डेस्क। केंद्रीय औषधि नियामक प्राधिकरण के विशेषज्ञों का दल बुधवार को सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की वैक्सीन कोवोवेक्स को वयस्कों के लिए विषम बूस्टर खुराक (Heterologous Booster Dose) के तौर पर अनुमति भी प्रदान कर सकता है। साथ ही अधिकारिक सूत्रों के अनुसार, इसे वे वयस्क लगवा सकते हैं, जिन्होंने कोविशील्ड या कोवैक्सीन के दो डोज लिए भी हैं। विभिन्न देशों में कोविड के बढ़ते मामलों को ध्यान में रखते हुए ऐसा फैसला भी लिया जा सकता है ऐसी आशंका है।
डीसीजीआई को लिखा था पत्र
केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) की विषय विशेषज्ञ समिति की बैठक 11 जनवरी को होने वाली भी है। और सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) में सरकार और नियामक मामलों के निदेशक प्रकाश कुमार सिंह ने दुनिया भर में कोविड के बढ़ते मामलों को लेकर हाल ही में ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) को एक पत्र भी लिखा था, जिसमें कोवोवैक्स को वयस्कों के लिए विषम बूस्टर खुराक के रूप में मंजूरी देने की मांग करी गई थी।
डीसीजीआई ने 28 दिसंबर 2021 को आपातकालीन स्थिति में 9 मार्च 2022 को 12-17 आयु वर्ग के लोगों के लिए और 28 जून, 2022 को 7-11 वर्ष की आयु के बच्चों के लिए कोवोवैक्स के सीमित उपयोग को कुछ शर्तों के साथ ही मंजूरी भी दी थी। बता दें कोवोवैक्स का निर्माण एसआईआई ने नोवावैक्स की तकनीक का इस्तेमाल करते हुए किया है और इसे यूरोपियन मेडिसिन एजेंसी ने सशर्त अनुमति प्रदान की है।
वहीं इसे 17 दिसंबर 2021 को विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा आपातकालीन उपयोग सूची में शामिल किया गया था और अगस्त 2020 में अमेरिका स्थित वैक्सीन निर्माता कंपनी नोवावैक्स ने एसआईआई के साथ व्यावसायिक स्तर पर भारत और निम्न मध्यम आय वाले देशों में इस वैक्सीन के विकास का करार भी किया गया था।

और पढ़ें -

राष्ट्रीय

उत्तर प्रदेश