Jansandesh online hindi news

Friendship Day 2022:- जब एक दोस्त की मौत पर अन्य दोस्तो ने किया सुसाइड तो मनाया जाने लगा मित्रता दिवस 

 | 
Friendship day

लाइफस्टाइल: दोस्ती जीवन का सबसे अच्छा रिश्ता होता है। कहते है जब हम किसी के सच्चे दोस्त बनते हैं तो हमे ईमानदारी का मतलब समझ आता है। हमारा दोस्त सिर्फ हनारा साथी नही होता बल्कि हमारे सुख और दुख का हिस्सा होता है। हम अपने दोस्त के साथ अपना पूरा ददिन गुजारा देते हैं और हम उससे उभते भी नहीं। दोस्ती में चाहे जितनी लड़ाई हो लेकिन कोई भी अपने दोस्त से अलग नहीं रहना चाहता है। हर कोई अपने दोस्तों के साथ मस्ती करना चाहता है और उनके साथ अपना अधिक समय गुजारना चाहता है।

वही दोस्ती को सेलिब्रेट करने के लिये हर साल हम फ्रेंडशिप डे मनाते हैं। वैसे तो दोस्ती के लिये कोई एक दिन नहीं हो सकता क्योंकि दोस्तो का साथ ही सेलिब्रेशन है।लेकिन अगस्त के पहले रविवार को हर साल दोस्ती दिवस मनाया जाता है। इस साल दोस्ती का दिन 7 अगस्त को पड़ रहा है। तो आइये जानते हैं फ्रेड शिप डे से जुड़ी कुछ खास बातें...
फ्रेंडशिप डे की शुरुआत परागुआ में हुई थी साल 1958 में अंतरराष्ट्रीय फ्रेंडशिप डे मनाए जाने का प्रस्ताव रखा गया और 30 जुलाई को संयुक्त राष्ट्र ने फ्रेंडशिप डे मनाने का ऐलान कर दिया। पूरा देश 30 जुलाई को अंतरराष्ट्रीय मित्रता दिवस मनाता है लोग अपने मित्रों को मित्रता दिवस की बधाई देते हैं और जश्न मनाते हैं। लेकिन अगर हम बात भारत, बांग्लादेश, मलेशिया, संयुक्त अरब अमीरात और संयुक्त राज्य अमेरिका जैसे राज्य फ्रेंडशिप डे अगस्त माह के पहले रविवार को मनाया जाता है। इसके अलावा ओबर्लिन में हर साल 8 अप्रैल को फ्रेंडशिप डे मनाया जाता है।

जाने क्यों अगस्त के पहले रविवार को होता है मित्रता दिवस:

कहा जाता है कि 1935 में अमेरिका की सरकार ने एक व्यक्ति को अगस्त के पहले रविवार को मार दिया था उसकी मौत के बाद उसके दोस्त दुखी हो गए और उन्होंने आत्महत्या कर ली। दोस्ती की ऐसी मिशाल समाने आने के बाद अमेरिका ने इस दिन मित्रता दिवस मनाने की घोषणा कर दी। तब से अब तक इसी वजह से अगस्त के पहले रविवार को मित्रता दिवस सेलीब्रेट होता है। यह सच्ची मित्रता का प्रतीक माना जाता है। सामान्य तौर पर अपनी दोस्ती में एक नई जान, नई उमंग लाने के लिये हर साल मित्रता दिवस मनाया जाता है।
Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।