शिकायत करने से बेहतर होता है चीजो को समझना

जनसंदेश ऑनलाइन ताजा हिंदी ख़बरें सबसे अलग आपके लिए

  1. Home
  2. स्वास्थ/लाइफस्टाइल

शिकायत करने से बेहतर होता है चीजो को समझना

Meaning of times


अगर हम मनुष्य की बात करे तो मनुष्य का जीवन घड़ी की तरह है जो निरंतर चलता रहता है और एक दिन ऐसा आता है जब इस मनुष्य के शरीर का सेल डाउन हो जाता है और यह गति रुक जाती है। लेकिन हम सत्य को जानते हुए भी अपने जीवन का उपयोग सही से नहीं करते हम पूरी जिंदगी दूसरो से उम्मीद लगाते है। हमे समय का सदुपयोग करने से ज्यादा जरूरी लगता है दूसरो से उनका समय मांगना और यह जानते हुए की वह अपने जीवन में व्यस्त है उनके लिए अपना समय बर्बाद करना।  

हम कभी भी उन लोगो से सीखना नहीं चाहतें की वह ऐसा क्यों कर रहे है आखिर उनके जीवन में उन्होंने खुद को ऐसा क्या दिया है की वह हमेशा व्यस्त रहते है और किसी अन्य के लिए उनके पास समय नहीं है। अगर हम एक दिन का आकलन करे तो १ दिन में २४ घंटे होती है १४४० मिनट होते है और ८६४०० सेकेण्ड होते है। जिस व्यक्ति से आप यह शिकायत करते है की वह आपको समय नहीं दे रहा है उसे रिश्तो की परवाह नहीं है। कभी विचार करो उसकी लाइफस्टाइल पर कितनी व्यस्ता भरी है। 
२४ घंटे में उसके 8 घंटे नौकरी में निकल जाते है। 2 घंटे रास्ता ले लेता है।1 घंटा वह खाने को देता है, आगे बढ़ने के लिए पढ़ाई भी जरूरी है 3 घंटे उसके किताबो में निकल जाते है 1 घंटा बामश्कक्त वह अपने परिवार को देता है और फिर आता है सोशल मीडिया जिसपर मैसेजो की लाइन लगी होती है शिकायतों का ट्रक लदा खड़ा रहता है जिसे खोलते ही वह उसके बोझ से दबने लगता है और 2 से 3 लोगो की शिकायतों को सुनते सुनते उसके ३ घंटे निकल जाते है।
इन तीन लोगो को सुनने के बीच कई लोग धड़ाके से उस इंसान को मैसेज करके तरह तरह के नामो से सम्बोधित करते है। लेकिन वह नहीं दे पाता है उन लोगो को जवाब क्योंकि तब तक हो चुकी होती है रात और टूटने लगता है थकावट से उसका शरीर। 
लेकिन क्या कभी आपने सोचा है की आपका यह व्यवहार आपके रिश्ते पर क्या प्रभाव डालता है जो व्यक्ति अपनी व्यस्ता के बीच तुम्हारे लिए वक्त निकालता है और तुमसे बात करने आता है उससे तुम बात करने का पूरा समय शिकायतों में निकल देते हो और आपकी शिकायतों की वजह से आपका संवाद खत्म हो जाता है।
Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

और पढ़ें -

राष्ट्रीय

उत्तर प्रदेश