नाक का मैल खाने से कम होता है डेंटल कैविटी का खतरा: रिपोर्ट

जनसंदेश ऑनलाइन ताजा हिंदी ख़बरें सबसे अलग आपके लिए

  1. Home
  2. स्वास्थ

नाक का मैल खाने से कम होता है डेंटल कैविटी का खतरा: रिपोर्ट

Image



डेस्क। Why People Put Finger in Nose: कई ऐसे काम होते हैं जो हम खुद से जानकर नहीं करते पर अक्सर ये होते ही रहते हैं। वहीं हम तब भी वह काम करते हैं, जब हम ये जानते हैं कि ऐसा करना सही नहीं है और इसे कुछ न कुछ नुकसान ही हो सकता है।
इस काम को करने पर दूसरे लोग हमारा मजाक भी बनाते हैं और इससे हमारी पर्सनैलिटी भी कमजोर हो जाती है, क्या आप जानते हैं कि ऐसी ही एक हरकत है हमारा नाक में उंगली डालना। अब इसे लेकर वैज्ञानिकों ने रिसर्च किया और यह जानने की कोशिश भी की है कि आखिर इंसान ऐसा क्यों करता है वहीं हम आपको यह बताने जा रहे हैं इससे जुड़ी एक दिलचस्प जानकारी।
12 प्राइमेट्स को लेकर किया रिसर्च
इस स्टडी को रिसर्चर्स ने प्राइमेट्स (Primate) की 12 प्रजातियों को लेकर किया गया है। इस कड़ी में जर्नल ऑफ जूलॉजी में पब्लिश एक स्टडी रिपोर्ट के मुताबिक, नाक में उंगली डालने का काम मनुष्‍य अकेला नहीं करता इसके अलावा कई जानवर ऐसा करते हैं। इस स्‍डटी की प्रमुख लेखक और लंदन में प्राकृतिक इतिहास संग्रहालय की वैज्ञानिक ऐनी-क्लेयर फैबरे इस संबंध में यह बताती हैं कि इसे लेकर अभी ठोस रूप से तो कुछ प्राप्त नहीं हुआ है, पर जितना मिला है वह काफी फनी रहा।
रिपोर्ट्स के अनुसार, ऐ-ऐ (aye-aye) नाम का एक प्राइमेट जोकि मूल रूप से मेडागास्कर (Madagascar) का है जो खाली होने पर अक्सर ऐसा करता है। वहीं रिसर्चर्स ने जाना कि यह प्राइमेट अपनी नाक में हाथ की सबसे लंबी उंगली डालता है। और वैज्ञानिकों ने उसके इस व्यवहार को जानने के लिए एक इमेजिंग तकनीक का इस्तेमाल भी किया है। इसके बाद वैज्ञानिकों को पता चला कि ऐ-ऐ के ऐसा करने के लिए अपनी बीच की उंगली का इस्‍तेमाल करता है। वैज्ञानिक यह भी कहते हैं कि हो सकता है कि यही आदत इंसानों में भी विकसित हुई हो। और ऐसा करना काफी नुकसानदायक हो सकता है।
साथ ही इसके अलावा एक और रिसर्च वैज्ञानिकों ने बताया  है कि जो लोग अपनी नाक का मैल खाते हैं, उन्‍हें कम डेंटल कैविटीज होती हैं और रिसर्च रिपोर्ट के मुताबिक, लगातार नाक में उंगली डालने से बॉडी में स्टैफिलोकोकस (Staphylococcus) जैसे वायरस आपको अपनी चपेट में ले सकते हैं। स्टैफिलोकोकस बैक्‍टीरिया अगर शरीर में फैल जाए, तो व्‍यक्ति को निमोनिया, हृदय वॉल्व और हड्डियों से जुड़े गंभीर संक्रमण का खतरा हो सकते हैं तो ऐसे में बेहतर है कि आप इससे दूर रहें।

और पढ़ें -

राष्ट्रीय

उत्तर प्रदेश