अमेरिका का सता रहा है खौफ फिर भी रूस से उधार क्यों मांग रहा है पाकिस्तान तेल

जनसंदेश ऑनलाइन ताजा हिंदी ख़बरें सबसे अलग आपके लिए

  1. Home
  2. अंतर्राष्ट्रीय

अमेरिका का सता रहा है खौफ फिर भी रूस से उधार क्यों मांग रहा है पाकिस्तान तेल

अमेरिका का सता रहा है खौफ फिर भी रूस से उधार क्यों मांग रहा है पाकिस्तान तेल


विदेश- पाकिस्तान की हालत इस समय काफी खराब है। आर्थिक स्थिति फटे हाल चल रही है। लोग रोटी को तरस रहे हैं। वही अब पाकिस्तान रूस से डिफर्ड पेमेंट के आधार पर तेल खरीदने के संदर्भ में लगातार बातचीत कर रहा है और रूस के साथ नजदीक बढ़ा कर अपनी मदद करना चाहता है।

एक्सप्रेस ट्रिब्यून न्यूज पेपर ने एक टॉप अधिकारी के हवाले से बताया है कि उज्बेकिस्तान के समरकंद में हुए एससीओ शिखर सम्मेलन के दौरान पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शाहबाज शरीफ ने सम्मेलन से इतर रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ तीन बैठकें की थी।
इस बैठक में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने रूस से उधार तेल लेने देने की सिफारिश की है। उन्होंने कहा है कि उन्हें रूस की मदद की आवश्यकता है और रूस ने भी पाक की दशा पर थोड़ा झुकाव दिखाया है। जानकारों ने कहा है कि अगर रूस पाकिस्तान को तेल देता है तो यह एक बड़ा बदलाव हो सकता है। 
क्योंकि अभी तक पाकिस्तान ने खाड़ी देशों के अलावा किसी अन्य देश से तेल नही लिया है। लेकिन यह पहली दफा है कि पाकिस्तान ने रूस के साथ तेल का व्यापार करने में अपनी रुचि जाहिर की है। लेकिन पाकिस्तान ऐसा कर पायेगा या नही यह आने वाला वक्त बताएगा। क्योंकि पाकिस्तान को अमेरिका का भी खौफ है। 
वही अगर हम अमेरिका की बात करे तो जबसे रूस और युक्रेन के मध्य युद्ध हुआ है। वह रूस का विरोधी बना खड़ा है। रूस के खिलाफ युक्रेन की काफी मदद कर रहा है। आय दिन अमेरिका को रूस की आलोचना करते देखा गया है। वही अब अगर पाकिस्तान रूस के साथ तेल व्यापार शुरू करता है तो यह कही न कही अमेरिका को आहत करेगा और पाक अमेरिका के साथ बैर कभी नही चाहता है।
Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

और पढ़ें -

राष्ट्रीय

उत्तर प्रदेश