जाने क्यों कट्टरता वाले देशो के साथ अपने रिश्ते को मजबूत करने में जुटा है रूस

जनसंदेश ऑनलाइन ताजा हिंदी ख़बरें सबसे अलग आपके लिए

  1. Home
  2. अंतर्राष्ट्रीय

जाने क्यों कट्टरता वाले देशो के साथ अपने रिश्ते को मजबूत करने में जुटा है रूस

जाने क्यों कट्टरता वाले देशो के साथ अपने रिश्ते को मजबूत करने में जुटा है रूस


विदेश- रूस और युक्रेन के मध्य जारी युद्ध को 7 महीने होने को हैं। दोनो देशो में से कोई भी एक दूसरे के सम्मुख झुकना नही चाहता है। जहां रूस युक्रेन को लगातार ध्वस्त करने की कवायद में जुटा हुआ है। वही अमेरिका युक्रेन को बैक स्पोर्ट दे रहा है और युक्रेन को इस युद्ध मे खड़े रहने की ताकत मिल रही है

अभी हाल ही में अमेरिका ने रूस के परिपेक्ष्य में यह दावा किया था कि रूस सोवियत संघ से हथियार खरीद कर युक्रेन को तबाह करना चाह रहा है। वही अब ब्रिटेन के सुरक्षा तंत्र से यह दावा किया है कि रूस ईरान द्वारा खरीदे ड्रोन का उपयोग युक्रेन के खिलाफ युद्ध मे कर रहा है।
यह खुलासे ब्रिटेन और अमेरिका की ओर से तब किये गए जब रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग-उन के बीच 15 अगस्त को उत्तर कोरिया के मुक्ति दिवस पर एक मीटिंग हुई और किम जोंग उन ने यह दावा किया की अब रूस और उत्तर कोरिया की यह मुलाकात इतिहास रचेगी।
इन दोनों नेताओं ने अपनी दोस्ती पर अपना अपना मत रखा था और कहा था कि हमारी मित्रता अब एक नए अध्य्याय का आगाज करेगी। युक्रेन और रूस के युद्ध ने रूस को यह बता दिया है कि अब उसे कई देशों के साथ अपनी मित्रता को बढाने की आवश्यकता है। क्योंकि kai देश अब रूस के खिलाफ खड़े हैं। अब ऐसे में रूस ईरान और उत्तर कोरिया के बीच अपने रिश्ते को मजबूत करने की कवायद में लग गया है।
Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

और पढ़ें -

राष्ट्रीय

उत्तर प्रदेश