यूएनईएस की बैठक में भारत को लेकर गलत बोला पाकिस्तान तो लगाई गई जमकर लताड़

जनसंदेश ऑनलाइन ताजा हिंदी ख़बरें सबसे अलग आपके लिए

  1. Home
  2. अंतर्राष्ट्रीय

यूएनईएस की बैठक में भारत को लेकर गलत बोला पाकिस्तान तो लगाई गई जमकर लताड़

यूएनईएस की बैठक में भारत को लेकर गलत बोला पाकिस्तान तो लगाई गई जमकर लताड़


विदेश- यूएनईएस में अल्पसंख्यकों के अधिकारों को लेकर हो रही बैठक में एक बार पुनः पाकिस्तान ने भारत का जिक्र किया और कहा भारत मे इस्लामोफोबिया है। इस बैठक के दौरान पाकिस्तान के विदेश मंत्री बिलावल भुट्टो ने कश्मीर का मुद्दा उठाया और भारत के अल्पसंख्यक को लेकर टिप्पणी की।

लेकिन पाकिस्तान के इस कथन को सुनकर संयुक्त सचिव श्रीनिवास गोत्रू भड़क उठे उन्होंने कहा पाकिस्तान में अल्पसंख्यक के हितों का क्या। पाकिस्तानी में हमेशा अल्पसंख्यक के अधिकारों का शोषण होता रहा है। उसकी इन हरकतों का लम्बा चौड़ा इतिहास है। पाकिस्तान की जो भी नीति अल्पसंख्यक के खिलाफ रही है उसे पूरे विश्व ने देखा है।
संयुक्त सचिव श्रीनिवास गोत्रू ने आगे कहा, पाकिस्तान ने अपने यहां अल्पसंख्यक को खत्म कर दिया है। पाकिस्तान में अल्पसंख्यक असुरक्षित महसूस करता है। यहां आय दिन महिलाओं का अपहरण होता है। हिन्दू, ईसाई और अन्य अल्पसंख्यक को रोज प्रताड़ना सहनी पड़ती है। अल्पसंख्यक महिलाओं का जबरन धर्म परिवर्तन करवाया जाता है।
लेकिन आज पाकिस्तान ने जब यह मुद्दा उठाया है तो यह अद्भुत है। क्योंकि वहां अल्पसंख्यक की स्थिति ठीक नही है। वही अगर हम भारत की बात करे तो भारत में अल्पसंख्यक के हित हेतु काम हो रहा है। लगातार भारत सरकार अल्पसंख्यक को अधिकार दिलाने का प्रयास कर रही है। 
उन्होंने आगे कहा, पाकिस्तान जहां अब अल्पसंख्यक कल्याण की बात नही होती। आज भी लोग वहां घुट घुट कर जी रहे हैं। आप लोगो ने अब इस विषय पर डेटा प्रकाशित करना बंद कर दिया है। वही आप अन्य पर अंगुली उठा रहे हैं। 
जानकारी के लिये बता दें विदेश मंत्री बिलावल भुट्टो ने संयुक्त राष्ट्र में दावा किया था कि भारत एक हिंदू राज्य में बदल रहा है। आज इस तरह के इस्लामोफोबिया की सबसे बुरी अभिव्यक्तियों में से एक हिंदुत्व से प्रेरित भारत में है. मुसलमानों के खिलाफ नफरत बढ़ रही है।
Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

और पढ़ें -

राष्ट्रीय

उत्तर प्रदेश