Saudi Arabia: तेल की कमी पर दुनिया को चेतावनी दे रहा सबसे बड़ा उत्पादक

जनसंदेश ऑनलाइन ताजा हिंदी ख़बरें सबसे अलग आपके लिए

  1. Home
  2. अंतर्राष्ट्रीय

Saudi Arabia: तेल की कमी पर दुनिया को चेतावनी दे रहा सबसे बड़ा उत्पादक

Image


Saudi Arab News: सऊदी अरब के वित्त मंत्री ने बुधवार को दुनिया को चेतावनी देते हुए बोला है कि, अगले 6 महीने तो गल्फ देशों के लिए काफी अच्छे रहने वाले हैं वहीं वर्ल्ड के लिए काफी मुश्किल भी होने वाले हैं।
इसके साथ ही सऊदी ऊर्जा मंत्री मोहम्मद बिन अब्दुल्ला अल-जादानी ने कहा है कि, 6 महीने क्या, अगले 6 साल भी खाड़ी-अरब देशों के लिए काफी अच्छे होने वाले हैं इसी कड़ी में व्यापक मिडिल ईस्ट के लिए काफी मुश्किल भरे दिन भी आने वाले हैं। साथ ही रियाद के प्रमुख निवेश सम्मेलन एफआईआई में बोलते हुए सऊदी ऊर्जा मंत्री ने यह कहा है कि, अगले छह महीने वैश्विक स्तर पर कठिन होंगे और इस क्षेत्र की मदद करने के लिए भी सऊदी अरब की भूमिका काफी अहम होगी। उन्होंने यह भी कहा कि, सऊदी अरब ने कम आय वाले देशों और अन्य लोगों को भोजन और ऊर्जा सहित सहायता भी भेजी है।
जानिए सऊदी ऊर्जा मंत्री की चेतावनी
सऊदी अरब के वित्त मंत्री ने बुधवार को कहा है कि, जीवाश्म ईंधन से ग्रीन एनर्जी में ट्रांसफॉर्म होने में अभी दुनिया को कम से कम 30 सालों का और समय भी लग सकता है, लिहाजा इसके ऊर्जा के पारंपरिक साधनों में लगातार निवेश की आवश्यकता भी है, ताकि सप्लाई चेन प्रभावित ना हो। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि, इस वक्त वैश्विक अर्थव्यवस्था कम से कम 6 महीने के लिए काफी कठनाई का सामना कर रही है। वहीं मोहम्मद अल-जादान ने कहा कि, खाड़ी अरब तेल उत्पादकों के लिए स्थिति काफी अच्छी है और संभवत: अगले 6 सालों तक अच्छे दिन भी रहने वाले हैं। इसी कड़ी में सऊदी अरब, जो दुनिया के शीर्ष तेल निर्यातक देश है, उसने और उसके ओपेक के साथी उत्पादकों ने पहले ही चेतावनी दे रखी है, कि वो हाइड्रोकार्बन में कम निवेश करेंगे वहीं तेल का अतिरिक्त उत्पादन क्षमता पहले से ही कमजोर है, साथ ही पूरी दुनिया में तेल की डिमांड काफी है।
सऊदी अरब के ऊर्जा मंत्री ने आगे कहा कि, भले ही जलवायु परिवर्तन की वजह से ऊर्जा के नवीनीकरण की बात हो रही हो और ग्रीन एनर्जी की तरफ बढ़ने की कोशिश की जा रही हो, पर ऊर्जा को लेकर ये बदलाव का फेज कोई एक साल के लिए नहीं है और ना ही 10 सालों के लिए है, बल्कि इसमें कम से कम 30 साल और लग जाएंगे। इसलिए हमें अपनी ऊर्जा सुरक्षा में निवेश करने की भी आवश्यकता है, लेकिन हम जलवायु परिवर्तन की उपेक्षा भी नहीं कर सकते हैं। 
साथ ही सऊदी अरब में इन्वेस्टमेंट फोरम एफआईआई में बोलते हुए सऊदी ऊर्जा मंत्री ने कहा हैं कि, 'सऊदी अरब की अर्थव्यवस्था में विविधता लाने के लिए और विदेशी पूंजी निवेश को आकर्षित करने के लिए सऊदी क्राउन प्रिंस नई आर्थिक नीतियों पर काम भी कर रहे हैं।' साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि, हम कार्बन उत्सर्जन कम करने के लिए काफी कोशिशें कर रहे हैं, वहीं हम पारंपरिक ऊर्जा में भी निवेश कर रहे हैं और जलवायु परिवर्तन रोकने की दिशा में काम कर रहे हैं।
Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

और पढ़ें -

राष्ट्रीय

उत्तर प्रदेश