पत्रकारों की सुरक्षा पर हो बात, लगातार मिल रही धमिकियां और हो रही मौत

जनसंदेश ऑनलाइन ताजा हिंदी ख़बरें सबसे अलग आपके लिए

  1. Home
  2. अंतर्राष्ट्रीय

पत्रकारों की सुरक्षा पर हो बात, लगातार मिल रही धमिकियां और हो रही मौत

पत्रकारों की सुरक्षा पर हो बात, लगातार मिल रही धमिकियां और हो रही मौत


विदेश- पत्रकार जो आपको घटनाओं से अवगत करवाता है। पत्रकार जो आपको तथ्यों के साथ देश दुनिया की खबर बताता है और अपनी जान जोखिम में डालकर आपको खतरे से पहले की उसकी चेतावनी देता है। आज पूरे विश्व मे उनकी हटायें हो रही है। यह वास्तव में चिंता का विषय है।
वही अब पत्रकारों की हो रही हत्या के परिपेक्ष्य में संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंटोनियो गुटेरेस ने चिंता जाहिर की है। उन्होंने कहा है कि दुनियाभर में 70 से अधिक पत्रकारों को मौत मिली है। यह वास्तव में चिंता की बात है।
पत्रकारों की हत्या के मामले बढ़ते जा रहे हैं। ज्यादा तर पत्रकार जेल में बन्द है। उन्हें तरह तरह की धमकियां दी जा रही है। जो चिंता का विषय है। क्योंकि अब पत्रकारों की सुरक्षा पर बात करना आवश्यक है। इसे अंतराष्ट्रीय स्तर पर देखना चाहिए और पत्रकारों की सुरक्षा के सम्बंध में कदम उठाने चाहिए।
बता दें गुटेरेस की टिप्पणी उस वक्त आई है जबकि 2 नवंबर को ‘इंटरनेशनल डे टू एंड इम्प्युनिटी फॉर क्राइम्स अगेंस्ट जर्नलिस्ट्स’ आयोजित किया जा रहा है।
गुटेरेस पत्रकारों की अहमियत बताते हुए कहा कि ‘स्वतंत्र प्रेस’ लोकतंत्र के लिए काम करने वाले, गलत कामों को उजागर करने वाले और सतत विकास लक्ष्यों को आगे बढ़ाने के लिए महत्वपूर्ण हैं।
Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

और पढ़ें -

राष्ट्रीय

उत्तर प्रदेश