क्यों भारत की बार बार प्रशंसा कर रहा है

जनसंदेश ऑनलाइन ताजा हिंदी ख़बरें सबसे अलग आपके लिए

  1. Home
  2. अंतर्राष्ट्रीय

क्यों भारत की बार बार प्रशंसा कर रहा है

क्यों भारत की बार बार प्रशंसा कर रहा है


India - भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर इस समय रूस की यात्रा पर है। वह रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव के साथ भारत रूस के बेहतर सम्बंध के साथ अंतराष्ट्रीय मुद्दों पर भी बातचीत कर रहे हैं।
लेकिन इस बीच एक बात सबसे अधिक विचारणीय है। कि जब युक्रेन और रूस के मध्य युद्ध चल रहा। हर उस देश की आलोचना की जा रही है। जो रूस के समर्थन में खड़ा है। तो भारत रूस के साथ अपना व्यापार बढाने की कवायद में क्यों लगा है। 
क्योंकि ऐसा नही है कि भारत पर इस बात का दवाब नही है कि वह रूस की आलोचना करे। अमेरिका ने भारत को कई बार चेतावनी भी दी है। लेकिन भारत रूस के साथ रूखा व्यवहार न करके अपने संबंधों को बेहतर करने में जुटा हुआ है।
जाने क्यों भारत के साथ बेहतर सम्बंध बना रहा रूस-
जब से रूस युक्रेन के मध्य युद्ध आरम्भ हुआ है। रूस की पश्चिमी देशों में आलोचना हो रही है। कई देशों ने रूस के साथ अपना व्यापार बन्द कर दिया है। कई कंपनियाँ और अंतरराष्ट्रीय ब्रैंड रूस से वापस लौट गए हैं। जिससे रूस को काफी नुकसान हुआ है।
लेकिन इस बीच रूस ने भारत के साथ अपने संबंधों को बेहतर किया है। जब से रूस युक्रेन युद्ध शुरू हुआ है। रूस और भारत एक दूसरे के साथ दिख रहे हैं।
वही अगर हम रूसी जनता की बात करे। तो उनके मुताबिक भारत ने उनका संकट के दौर में साथ दिया है। रूस के राष्ट्रपति पुतिन कई बार भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रशंशा करते दिखाई दिए हैं यह वास्तव में भारत के लिए एक सकारात्मक संदेश है। 
भारत की रूस में उम्दा छवि बनी है। भारत के लोग रूस को अपना सबसे बड़ा समर्थक मानते है। रूस को अब भारत पर भरोसा है और शायद इसी भरोसे के बलबूते पर रूस भारत के साथ अपने न सिर्फ रिश्तों को बेहतर कर रहा है। बल्कि भारत के साथ अपना व्यापार भी बड़ा रहा है।
Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

और पढ़ें -

राष्ट्रीय

उत्तर प्रदेश