Jansandesh online hindi news

पाकिस्तान के परमाणु वैज्ञानिक डॉ अब्दुल कदीर खान का निधन

पाकिस्तान के परमाणु कार्यक्रम के जनक डॉ अब्दुल कादिर खान की तबीयत शनिवार रात बिगड़ने लगी,और सुबह 7:04 बजे उनका निधन हो गया
 | 
डॉ अब्दुल कादिर खान का निधन
डॉ अब्दुल कादिर खान को इस्लामिक परमाणु बम का पिता कहा जाता है 

पाकिस्तान | पाकिस्तान के परमाणु कार्यक्रम के जनक डॉ अब्दुल कादिर खान की तबीयत शनिवार रात बिगड़ने लगी, जिसके बाद उन्हें रविवार सुबह छह बजे एंबुलेंस से केआरएल अस्पताल लाया गया. सूत्रों ने बताया कि परमाणु वैज्ञानिक को सांस लेने में तकलीफ हुई जिसके बाद उन्हें अस्पताल लाया गया और सुबह 7:04 बजे उनका निधन हो गया। डॉक्टरों ने कहा है कि डॉक्टर अब्दुल कादिर खान का निधन फेफड़े के गिरने से हुआ। 

आंतरिक मंत्री शेख रशीद ने वैज्ञानिक की प्रशंसा की, और कहा कि डॉ कादिर के जीवन को बचाने के लिए सभी आवश्यक व्यवस्था की गई थी। परमाणु वैज्ञानिक के अंतिम संस्कार के बारे में पूछे जाने पर, रशीद ने यह कहते हुए टिप्पणी करने से इनकार कर दिया कि वह इस मामले पर बाद में बात करेंगे। 

अस्पताल प्रशासन डॉ अब्दुल कादिर खान के पार्थिव शरीर को उनके आवास पर स्थानांतरित करने की व्यवस्था करने की कोशिश कर रहा है, जिसके बाद परमाणु वैज्ञानिक के अंतिम संस्कार की घोषणा होने की उम्मीद है।

डॉ अब्दुल कादिर खान की एक झलक  


1 अप्रैल 1936 को भारत के भोपाल में पैदा हुए डॉ अब्दुल कादिर खान एक प्रसिद्ध पाकिस्तानी धातुविद् और परमाणु वैज्ञानिक थे। वह उन लोगों में शामिल थे जो 1947 में अपने परिवारों के साथ पाकिस्तान चले गए थे। खान को व्यापक रूप से "इस्लामिक परमाणु बम का पिता" या पाकिस्तान के परमाणु निवारक कार्यक्रम के लिए गैस-सेंट्रीफ्यूज संवर्धन प्रौद्योगिकी के संस्थापक के रूप में माना जाता है क्योंकि उन्होंने मुस्लिम दुनिया का पहला परमाणु बम विकसित किया था। 

उन्होंने 1967 में नीदरलैंड के एक विश्वविद्यालय से इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की और बाद में बेल्जियम से मेटलर्जिकल इंजीनियरिंग में डॉक्टरेट की उपाधि हासिल की।डॉ खान पहले पाकिस्तानी थे जिन्हें तीन राष्ट्रपति पदक से सम्मानित किया गया था। उन्हें दो बार निशान-ए-इम्तियाज (ऑर्डर ऑफ एक्सीलेंस) और एक बार हिलाल-ए-इम्तियाज (क्रिसेंट ऑफ एक्सीलेंस) से नवाजा जा चुका है।

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।