Jansandesh online hindi news

मुल्ला बरादर की मौत पर तालिबान की सफाई

तालिबान के शीर्ष नेताओं में शुमार मुल्ला बरादर ने ऑडियो टेप जारी कर इसे प्रोपेगेंडा करार दिया है
 | 
jpg फाइल
इसलिए फैली मुल्ला बरादर की मौत की खबर

तालिबान | तालिबान के शीर्ष नेताओं में शुमार मुल्ला बरादर ने ऑडियो टेप जारी कर इसे प्रोपेगेंडा करार दिया है. मोहम्मद हसन अखुंद के डिप्टी प्रधानमंत्री ने कहा है कि मेरी मौत के बारे में सोशल मीडिया में एक खबर तेजी से फैल रही है. पिछले कुछ दिनों से मैं लगातार दौरे कर रहा हूं. मैं इस वक्त जहां हूं, वहां बिल्कुल सही-सलामत हूं. मुल्ला बरादर ने आगे कहा है कि मीडिया हमेशा दुष्प्रचार करता है. इसलिए मीडिया के झूठ को नकारें. मैं आपको आश्वस्त करता हूं कि अफगानिस्तान में कोई समस्या नहीं है. 
 


 

​​​​​​​

तालिबान के प्रवक्ता ने जारी किया बयान 

तालिबान के प्रवक्ता सुहैल शाहीन ने कतर से बयान जारी कर तालिबान के सह-संस्थापक और अब अफगानिस्तान के डिप्टी पीएम मुल्ला बरादर की मौत की खबरों को गलत और भ्रामक करार दिया. प्रवक्ता सुहैल शाहीन ने कहा कि कुछ साल पहले तालिबान के सुप्रीम लीडर हैबतुल्लाह अखुंदजादा की मौत की खबर इसी मीडिया ने फैला दी थी. अखुंदजादा अब भी जीवित हैं. कांधार में हैं. इसलिए ऐसी खबरों पर विश्वास न करें. 

उल्लेखनीय है कि अफगानिस्तान पर जब तालिबान ने कब्जा किया था, तो चर्चा थी कि मुल्ला बरादर को देश का नया प्रधानमंत्री बनाया जायेगा. लेकिन ऐसा नहीं हुआ. मुल्ला हसन अखुंद को अफगानिस्तान की अंतरिम सरकार का प्रधानमंत्री घोषित किया गया और मुल्ला बरादर को उनका डिप्टी बनाया गया. इसके बाद से कहा जा रहा था कि मुल्ला बरादर नाराज चल रहे हैं. 

इसलिए फैली मुल्ला बरादर की मौत की खबर    

पिछले दिनों कतर के उप-प्रधानमंत्री और विदेश मंत्री शेख मोहम्मद बिन अब्दुर रहमान अल सानी काबुल आये थे. यहां उन्होंने तालिबान के शीर्ष नेताओं से मुलाकात की, लेकिन इस दौरान डिप्टी पीएम मुल्ला बरादर कहीं नहीं दिखे. प्रधानमंत्री मुल्ला हसन अखुंद और गृह मंत्री सिराजुद्दीन हक्कानी ने विदेशी मेहमानों से मुलाकात की. इसके बाद ही सोशल मीडिया पर खबरें चलने लगीं कि मुल्ला बरादर राष्ट्रपति भवन में हुए एक संघर्ष में मारा गया.

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।