इतने दिन अंतरिक्ष में बिताकर इस यान ने बनाया नया रिकॉर्ड

जनसंदेश ऑनलाइन ताजा हिंदी ख़बरें सबसे अलग आपके लिए

  1. Home
  2. खास खबर

इतने दिन अंतरिक्ष में बिताकर इस यान ने बनाया नया रिकॉर्ड

Image


डेस्क। अमेरिका का एक मानवरहित सैन्य अंतरिक्ष विमान शनिवार को धरती पर वापस लौट आया है। इस विमान ने अंतरिक्ष में 908 दिन बिताए। बता दें बोइंग ने बताया कि अमेरिका के एक मानवरहित अंतरिक्ष विमान ने शनिवार को धरती पर उतरने से पहले 2.5 साल अंतरिक्ष में बिताए हैं।908 दिन बिताने के साथ ही इसने नया रिकॉर्ड भी स्थापित किया है।
कंपनी ने एक बयान में यह कहा कि बोइंग-निर्मित X-37B ऑर्बिटल टेस्ट व्हीकल (OTV) ने 12 नवंबर, 2022 को सुबह 5:22 बजे फ्लोरिडा में NASA के कैनेडी स्पेस सेंटर में उतरने से पहले कक्षा में 908 दिन बिताने के साथ ही एक नया रिकॉर्ड स्थापित किया है। इसका पिछला मिशन 780 दिनों तक जारी था।
पिछले पांच मिशन इतने दिनों तक चले
सौर-संचालित अंतरिक्ष यान सेवानिवृत्त अंतरिक्ष शटल के जैसा दिखता है, जो लगभग 9 मीटर (29 फीट) कई गुना छोटा भी है। बता दें कक्षा में इसके पिछले पांच मिशन 224 से 780 दिनों तक चले थे। वहीं कंपनी ने कहा नासा के कैनेडी स्पेस सेंटर में उतरने से पहले मानवरहित अंतरिक्ष विमान ने कक्षा में 908 दिन बिताए है।
इतनी भरी उड़ान
कंपनी ने यह भी कहा कि इस बार, अंतरिक्ष यान ने एक सेवा मॉड्यूल की मेजबानी की है। जिसने अमेरिकी नौसेना अनुसंधान प्रयोगशाला, अमेरिकी वायु सेना अकादमी और अन्य के लिए परीक्षण भी किए। वहीं अपने छठे मिशन के सफल समापन के साथ X-37बी अब तक 1.3 अरब मील से अधिक की उड़ान भी भर चुका है। इसके साथ ही उसने अंतरिक्ष में कुल 3,774 दिन बिताए हैं जहां एक अन्य प्रयोग ने बीजों पर लंबी अवधि के अंतरिक्ष जोखिम के प्रभावों का मूल्यांकन भी करा।
वहीं इसपर अंतरिक्ष संचालन के प्रमुख जनरल चांस साल्ट्जमैन ने कहा कि यह मिशन अंतरिक्ष अन्वेषण में सहयोग पर अंतरिक्ष बल के फोकस पर प्रकाश भी डालता है और वायु सेना विभाग (डीएएफ) के भीतर और बाहर हमारे भागीदारों के लिए अंतरिक्ष तक कम लागत वाली पहुंच का विस्तार भी करता है। आपको बता दें कि छठा मिशन मई 2020 में केप कैनावेरल स्पेस फोर्स स्टेशन से लॉन्च करा गया था।
Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

और पढ़ें -

राष्ट्रीय

उत्तर प्रदेश