Jansandesh online hindi news

Chanakya Niti । अमीर बनने के लिए चाणक्य ने सुझाए हैं ये रास्ते

 | 
Image

डेस्क। आचार्य चाणक्य ने अपने नीतिशास्त्र में सफल जीवन के कई मंत्रों का जिक्र किया है। उन्होंने कहा है कि इनका पालन करने के बाद हम अपने जीवन को सफल बना सकते हैं। भले ही आचार्य चाणक्य की नीतियां और विचार आपको कठोर लगें मगर इनका जीवन में सही तरह से आत्मसात किया जाए यह हमारे जीवन को काफी सफल बनाएंगे।

आचार्य चाणक्य की कही हुई हर बात आज भी उतनी ही सही है जितनी वह उस जमाने में कारगर साबित हुआ करती थी। बता दें कि चाणक्य नीति आपको अपने जीवन में कुछ भी हासिल करने में मदद करती है, इससे भी कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप किस क्षेत्र में काम करते हैं। चाणक्य नीति में उन्होंने आर्थिक स्थिति को मजबूत करने के उपायों के बारे में भी जिक्र किया है, उन्होंने इस बात का उल्लेख भी किया है कि व्यक्ति किस तरह से आर्थिक रूप में सम्पन्न हो सकता है।

पक्षियों की निस्वार्थ सेवा 

आचार्य चाणक्य ने कहा है कि जो व्यक्ति पक्षियों की सेवा करता है, उनके लिए दाने-पानी की व्यवस्था करता है उसके जीवन में धन की कभी भी कमी नहीं होती और उसके सामने धन आने के कई रास्ते हमेशा खुले रहते हैं।

देवी देवताओं का आदर सम्मान 

जिस घर में नियमित रूप से ईश्वर की आराधना की जाती है, उनके सामने दीप प्रज्ज्वलित किया जाता है, ऐसे घरों में धन-संपत्ति की कभी भी कमी नहीं हो सकती। घर के सदस्यों को कभी भी धन के अभाव की वजह से परेशानियां नहीं झेलनी पड़ती

कुष्ठ रोगियों की सेवा 

आचार्य चाणक्य के मुताबिक जो व्यक्ति निस्वार्थ भाव से कुष्ठ रोगियों व्यक्ति की मदद करता है, उनकी सेवा करता है उस पर धन देवता कुबेर अपनी कृपादृष्टि हमेशा ही बनाए रखते हैं। कुष्ठ रोगियों की मदद करने से व्यक्ति के जीवन में स्वतः ही धन आगमन के कई रास्ते खुल जाते हैं।

गाय माता की सेवा

आचार्य चाणक्य यह भी बताते हैं कि गाय माता में सभी देवी-देवता निवास करते हैं, जो व्यक्ति गाय माता की सेवा करता है उसे पुण्यात्मा का दर्जा प्राप्त होता है। गाय माता की सेवा करने से सभी देवी-देवताओं की भी सेवा हो जाती है और इसी के परिणामस्वरूप घर में अपार धन संपत्ति की वर्षा होती है। 

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।