नफरत का गढ़ है डिबेट शो, सरकार क्यों बनी है मूक दर्शक- सुप्रीम कोर्ट

जनसंदेश ऑनलाइन ताजा हिंदी ख़बरें सबसे अलग आपके लिए

  1. Home
  2. खास खबर

नफरत का गढ़ है डिबेट शो, सरकार क्यों बनी है मूक दर्शक- सुप्रीम कोर्ट

नफरत का गढ़ है डिबेट शो, सरकार क्यों बनी है मूक दर्शक- सुप्रीम कोर्ट supreme court


Breakingnews - देश मे आय दिन धर्म जाति के नाम पर नफरत भरे भाषण ट्रेड करते रहते हैं। वही अब सुप्रीम कोर्ट ने हेट स्पीच के लिए टीवी चैनलों को जिम्मेदार ठहराया है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा समाचार चैनलों द्वारा की जाने वाली डीबेट हेट स्पीच को बढाने में अहम भूमिका निभा रही है।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा, सरकार इस मामले को छोटा आंका रही है लेकिन टीवी चैनलों पर चल रही डिबेट देश को नफरत की आग में झोंक रही है। यह डिबेट अपने स्वार्थ के मुताबिक करवाई जाती है। लेकिन इन्हें देखकर समाज मे विभेद पैदा होता है।
जस्टिस केएम जोसफ़ और ऋषिकेश राय की बेंच ने टीवी डिबेट को कुछ नियमों में बांधने की मंशा जाहिर की है और केंद्र सरकार से पूंछा है की क्या वह इसे रेगुलट करने के परिपेक्ष्य में कोई कानून लेकर आएंगे।
क्योंकि वह लोग नफरत फैलाते हैं और नफरत से उन्हें टीआरपी मिलती है और टीआरपी से उन्हें लाभ। बेंच ने कहा वह कुछ नियम लागू करना चाह रहे हैं जो तब तक लागू रहेंगे जब तक सरकार इस परिपेक्ष्य में कोई कानून नही लेकर आती है।
जानकारी के लिये बता दें यह पहली बार हुआ है जब सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले पर बात की है और समाचार चैनलों को फटकार लगाई है। क्योंकि उनके द्वारा जनता के बीच जो परोसा जा रहा है वह नफरत का विषय बन रहा है।
Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

और पढ़ें -

राष्ट्रीय

उत्तर प्रदेश