Jansandesh online hindi news

बच्चों के सामने माता-पिता को नहीं करने चाहिए ये काम: चाणक्य नीति

 | 
Image

डेस्क। नीति शास्‍त्र में आचार्य चाणक्य द्वारा बताई गई नीतियां भले ही लोगों को कठोर एवं कठिन मालूम होती हैं। पर यह लोगों के जीवन को आसान बनाने का सही रास्‍ता  भी दिखाती हैं।

चाणक्य द्वारा बताए गए उपायों को अपना कर कोई भी व्‍यक्ति अपने जीवन को सुखमय बना सकता है। आचार्य चाणक्य ने अपने नीतिशास्‍त्र में बड़ों, बुजुर्गों और महिला के साथ बच्चों के बारे में भी कई बातें कही हैं। 

चाणक्य नीति में बच्चों की परवरिश से जुड़ी अहम बातों के प्रति अभिभावकों को अगाह करते हुए आचार्य ने कई अहम बाते बताईं हैं। 

उन्होंने कहा है कि अभिभावकों को बच्‍चों के सामने हर बात सोच विचार कर कहना चाहिए। उन्होंने बच्चों को छोटे पौधे के समान बताया हैं। इनको बचपन में जैसा ढाला जाएगा, वे बड़े होकर वैसे ही बनेंगे। इसी कारण से बच्चों के देखभाल के समय कई तरह की सावधानी बरतनी जरूरी बताई जाती है।

अगर कोई अभिभावक इन बातों का ध्‍यान नहीं रखता तो आगे चलकर उसे ही इसका नुकसान उठाना पड़ता है।

आचार्य चाणक्य के अनुसार बच्चों के सामने रखें इस बातों का विशेष ध्यान

बच्चों के सामने झूठ न बोलें

सभी का सम्मान और आदर करें

बच्‍चों के सामने न करें लड़ाई

बच्चों के सामने किसी की बुराई मत करें

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।