Jansandesh online hindi news

शिमला के कच्चीघाटी में करीब पांच दिन पहले भरभरा की गिरे भवन के बाद वहां 4 और भवन खतरे की जद में 

 | 
शिमला के कच्चीघाटी में करीब पांच दिन पहले भरभरा की गिरे भवन के बाद वहां 4 और भवन खतरे की जद में 

शिमला. हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला के कच्चीघाटी में करीब पांच दिन पहले भरभरा की गिरे भवन के बाद वहां चार और भवन खतरे की जद में आ गए हैं. भवनों को खतरा पैदा होने के बाद एमसी ने भवन मालिकों को तीन दिनों के भीतर भवन तोड़ने के आदेश जारी कर दिए हैं.

हालांकि, यदि भवन मालिक इन भवनों को नहीं तोड़ते हैं तो एमसी ने लोक निर्माण विभाग को आगामी कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं. एमसी आयुक्त आशीष कोहली ने बताया कि बीते कल एमसी की तकनीकी कमेटी ने घटनास्थल का दौरा किया है, जहां कमेटी ने अन्य भवनों को खतरा पैदा होने की रिपोर्ट सौंपी है. इसके अलावा, जिन भवनों को खतरा पैदा हुआ है.

उनके नीचे से भूस्खलन लगातार जारी है और किसी भी वक्त यह भवन ढह सकते हैं. उन्होंने बताया कि भवन ढहने के बाद से दो सड़क के साथ लगते दो भवनों को खतरा पैदा हुआ है, जिसे खाली करवा दिया गया है. इसके अलावा दो नीचे वाले भवन जहां गिरे भवन का मलबा गिरा है. वह भी खतरे की जद में हैं. ऐसे में पहले सड़क के साथ लगते भवनों को तोड़ने के आदेश जारी किए गए हैं. उसके बाद नीचे वाले भवनों को तोड़ने के आदेश जारी किए हैं, जिन्हें तीन दिनों के भीतर तोड़ने के आदेश जारी किए हैं. यदि भवन मालिक नहीं तोड़ते हैं तो सरकार आगामी कार्रवाई करेगी.

सात मंजिला इमारत गिरी थी

बता दें कि बरसात के चलते कमजोर हुई नींव के चलते सात मंजिला भवन ढह गया.जिसकी जांच के लिए उपायुक्त शिमला के नेतृत्व में कमेटी का गठन किया गया.जिन्होंने मौक़े पर जाकर निगम की तकनीकी कमेटी को भेजा गया जिसके बाद जांच कमेटी ने रिपोर्ट सौंपकर चार अन्य भवनों को असुरक्षित भवन घोषित कर तोड़ने के आदेश दिए हैं. अब देखना होगा कि भवन मालिक असुरक्षित भवनों पर आगामी कार्रवाई क्या करते हैं?

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।