Jansandesh online hindi news

अगस्त में थोक महंगाई के मोर्चे पर सरकार को फिर से झटका लगा

अगस्त में थोक महंगाई दर (WPI) 11.39 परसेंट रही है, जबकि अनुमान 10.8 परसेंट का था.
 | 
jpg फाइल

क्यों बढ़ी थोक महंगाई दर?  

महंगाई से राहत मिलती हुई नहीं दिख रही है. अगस्त में थोक महंगाई के मोर्चे पर सरकार को फिर से झटका लगा है. अगस्त में थोक महंगाई दर (WPI) 11.39 परसेंट रही है. जबकि अनुमान 10.8 परसेंट का था. इसके पिछले महीने जुलाई में थोक महंगाई दर 11.16 परसेंट थी.   


 

 

क्यों बढ़ी थोक महंगाई दर?  

सरकारी आंकड़ों के मुताबिक ईंधन और बिजली की कीमतों में तेज़ी के कारण थोक महंगाई में बढ़ोतरी दर्ज की गई है. इसके साथ ही महंगाई की इस मार के लिए मैन्युफैक्चर्ड प्रोडक्ट्स की कीमतों में आया उछाल भी जिम्मेदार हैं. तिमाही दर तिमाही आधार पर अगस्त में फ्यूल और पावर की थोक महंगाई 26.02 परसेंट से बढ़कर 26.09 परसेंट पर आ गई है.

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।