Jansandesh online hindi news

सावधान , फरीदाबाद में सरेआम घूम रहे हैं 1600 कोरोनावायरस के मरीज

फरीदाबाद में घूम रहे हैं 1600 कोरोनावायरस के मरीज । यह वह मरीज है जिन्होंने कोरोना के टेस्ट तो कराए , लेकिन टेस्ट करवाते समय अपनी गलत सूचना जिला स्वास्थ्य विभाग को दी और अब स्वास्थ्य विभाग के पास इनके ना तो एड्रेस है और न ही कोई सही फोन नंबर । ऐसी स्थिति में
 | 
सावधान , फरीदाबाद में सरेआम घूम रहे हैं 1600 कोरोनावायरस के मरीज
  • फरीदाबाद में घूम रहे हैं 1600 कोरोनावायरस के मरीज । यह वह मरीज है जिन्होंने कोरोना के टेस्ट तो कराए , लेकिन टेस्ट करवाते समय अपनी गलत सूचना जिला स्वास्थ्य विभाग को दी और अब स्वास्थ्य विभाग के पास इनके ना तो एड्रेस है और न ही कोई सही फोन नंबर । ऐसी स्थिति में आप अंदाजा लगा सकते हैं कि फरीदाबाद कोरोना के मामले में कितना ज्यादा खतरनाक होता जा रहा है ।

  • कोरोना के बढ़ते मामले फरीदाबाद के लिए बड़ी चिंता की वजह बने हुए हैं , लेकिन आज जो खबर हम आपको बताने जा रहे हैं इस खबर को देखकर आप भी यह कहेंगे कि घर से निकलना बेहद खतरनाक है । जी हां फरीदाबाद में 1600 से कोरोनावायरस मरीज ऐसे हैं जो सरेआम बाजार में , ऑफिसों में और दूसरे सार्वजनिक स्थानों पर घूम रहे हैं , लेकिन स्वास्थ्य विभाग के पास उनकी कोई सूचना नहीं है । दरअसल यह वह मरीज हैं जिन्होंने अपना टेस्ट सरकारी और निजी लैब पर कराया लेकिन टेस्ट कराते समय जो सूचना स्वास्थ्य विभाग या लैब को इन्होंने मुहैया कराई ,वह सूचना पूरी तरह गलत थी जैसे कि घर का पता गलत या मोबाइल नंबर । और अब जब इन लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आ गई है तो जिला प्रशासन के हाथ पैर फुले हुए हैं क्योंकि इतनी बड़ी संख्या में कोरोनावायरस के पीड़ित शहर के अलग-अलग हिस्सों में घूम रहे हैं और लोगों के लिए बड़ी परेशानी की वजह बने हुए हैं । डीसी कमिश्नर के मुताबिक उन्होंने प्राइवेट लैब और स्वास्थ्य विभाग को यह आदेश दिए हुए हैं कि किसी का भी कोरोना टेस्ट करते समय पूरी सूचनाएं अंकित की जाए लेकिन इसमें लापरवाही बरती जा रही है और यही वजह है जिसके चलते इस तरह की स्थिति सामने आ रही है । उन्होंने साफ तौर पर प्राइवेट लैब को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर अब इस मामले में कोई भी लापरवाही बरती गई तो इनके खिलाफ सख्त एक्शन लिया जाएगा । उन्होंने कहा कि प्राइवेट लैब की लापरवाही की चलते कोरोना पॉजिटिव पाए गए लेकिन अपने दिए एड्रेस पर ना मिलने वाले मामलों की संख्या 1600 हो गई है जो कि चिंताजनक है। डीसी ने कहा कि अब ऐसे मामलों की जांच पुलिस को दी गई गई। इसमें कुछ मामलों में डबल एंट्री, कुछ मामले फ़रीदाबाद के ना होकर दूसरे जिलों के हैं। उन्होंने कहा कि अब प्रशासन लापरवाही करने वाली लैब से सख्ती से निबटेगा।