Jansandesh online hindi news

40 बच्चों की टीचर्स ने की बेरहमी सामूहिक पिटाई, 6 स्टूडेंट गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती

एक छात्र की शरारत के कारण पीटा गया और इसका आरोप 3 शिक्षकों पर लगाया गया है।हरियाणा के फतेहाबाद जिले में स्थित एक राजकीय माध्यमिक विद्यालय में 40 बच्चों की सामूहिक पिटाई का मामला सामने आया है। बताया जा रहा है कि 3 शिक्षकों ने 40 बच्चों की जमकर पिटाई की, जिसके कारण कई छात्र घायल हो गए। पिटाई के बाद कई छात्रों को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वहीं आरोपी शिक्षकों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई गई है।

 | 
40 बच्चों की टीचर्स ने की बेरहमी सामूहिक पिटाई, 6 स्टूडेंट गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती
 

फतेहाबाद घटना 6 सितंबर की है, जिसे लेकर शिक्षा विभाग से लेकर बाल संरक्षण आयोग तक ने कड़ा रुख अख्तियार कर लिया है। इस मामले में अभिवावकों की ओर से शिक्षकों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई गई है। शिक्षा विभाग की ओर से इस मामले में रिपोर्ट मांग ली गई है। पीड़ित स्टूडेंट्स का कहना है कि उन्हें एक छात्र की शरारत के कारण पीटा गया और इसका आरोप 3 शिक्षकों पर लगाया गया है।हरियाणा के फतेहाबाद जिले में स्थित एक राजकीय माध्यमिक विद्यालय में 40 बच्चों की सामूहिक पिटाई का मामला सामने आया है। बताया जा रहा है कि 3 शिक्षकों ने 40 बच्चों की जमकर पिटाई की, जिसके कारण कई छात्र घायल हो गए। पिटाई के बाद कई छात्रों को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वहीं आरोपी शिक्षकों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई गई है।

छात्रों का कहना है कि उन्हें गंदी-गंदी गालियां भी दी गईं, जिसके बाद छुट्टी के वक्त स्कूली स्टूडेंट्स ने जमकर प्रदर्शन किए। घटना के बाद आक्रोशित अभिवावकों ने स्कूल के खिलाफ शिकायत की। इसके बाद मेडिकल टेस्ट कराकर एफआईआर दर्ज कराई गई। वहीं कई स्कूली छात्रों ने अब स्कूल जाने से इनकार कर दिया है।

इस मामले में राज्य बाल संरक्षण आयोग ने एसपी से रिपोर्ट मांगी है। मीडिया रिपोर्ट्स का संज्ञान लेते हुए अध्यक्ष ज्योति बैंदा ने एसपी को पांच दिन में रिपोर्ट सौंपने का निर्देश दिया है। वहीं अभिवावकों ने आयोग से आरोपी शिक्षकों पर कड़ी कार्रवाई की मांग की है।

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।