कर्नाटक में मोरल विषय के रूप में स्कूल कॉलेजों में पढ़ाई जाएगी भगवत गीता

जनसंदेश ऑनलाइन ताजा हिंदी ख़बरें सबसे अलग आपके लिए

  1. Home
  2. राष्ट्रीय

कर्नाटक में मोरल विषय के रूप में स्कूल कॉलेजों में पढ़ाई जाएगी भगवत गीता

कर्नाटक में मोरल विषय के रूप में स्कूल कॉलेजों में पढ़ाई जाएगी भगवत गीता


देश- देश अब सनातन संस्कृति की ओर बढ़ रहा है। बच्चो को भगवत गीता का ज्ञान दिया जा रहा है। दावे किए जा रहे हैं कि दूसरे की संस्कृति को सीखने के साथ हमे अपने कल्चर को अच्छे से समझना चाहिए। हम अपनी विरासत पर किसी अन्य की चीजें हावी नही होने देना चाहते हैं।

वही अब कर्नाटक के शिक्षा मंत्री बी.सी. नागेश ने कहा है कि राज्य सरकार इस अकेडमिक ईयर से राज्य भर के स्कूलों और कॉलेजों में भगवद् गीता की पढ़ाई शुरू करने पर विचार कर रही है। हम इसे एक मोरल विषय के रूप में पढ़ाएंगे। यह आवश्यक है। जल्द ही इसके लिए एक समिति का गठन होगा और जल्द ही इस मामले में हम निर्णय लेंगे।
मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने कहा था कि मोरल साइंस सब्जेक्ट के एक हिस्से के रूप में भगवद् गीता को सिलेबस में शामिल करना उनकी सरकार का रुख रहा. उद्योग मंत्री मुरुगेश निरानी ने कहा है कि भगवद् गीता में मानवीय मूल्य हैं और बच्चों को उन मूल्यों के बारे में जानने की जरूरत है। 
जानकारी के लिए बता दें गुजरात सरकार ने भगवद् गीता को सिलेबस में शामिल करने का निर्णय लिया है और कर्नाटक में भी बच्चों को भगवद् गीता पढ़ाने का फैसला लिया जाना चाहिए। 
Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

और पढ़ें -

राष्ट्रीय

उत्तर प्रदेश