ब्रह्मोस को रक्षा मंत्रालय से मिली इतने करोड़ की सौगात

जनसंदेश ऑनलाइन ताजा हिंदी ख़बरें सबसे अलग आपके लिए

  1. Home
  2. राष्ट्रीय

ब्रह्मोस को रक्षा मंत्रालय से मिली इतने करोड़ की सौगात

Image


 

Defence Ministry Signs Deal For 35 BrahMos missiles: रक्षा मंत्रालय ने गुरुवार के दिन ब्रह्मोस एयरोस्पेस (BrahMos Aerospace Thiruvananthapuram Ltd- BATL) के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर भी किया है। वहीं इसके तहत 1,700 करोड़ रुपये की लागत से स्टील्थ गाइडेड मिसाइल विध्वंसक के दो पी-15बी वर्ग के लिए सतह से सतह पर मार करने वाली 35 लड़ाकू (Combat) और तीन अभ्यास ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइलों (Practice BrahMos Supersonic Surface-To-Surface Cruise Missiles) की भारतीय नौसेना को आपूर्ति भी की जानी है।

इसके साथ ही रक्षा मंत्रालय ने एक बयान में यह भी कहा, “दोहरी भूमिका वाली इन मिसाइलों (Dual-Role Capable Missiles) को शामिल करने से नौसेना के बेड़े की परिसंपत्ति (Navy Fleet Assets) की परिचालन क्षमता में काफी इजाफा होगा हुआ है।” 

इसके साथ ही लगभग 29,643.74 करोड़ रुपये की परियोजना लागत से प्रोजेक्ट-15बी के तहत चार स्टील्थ गाइडेड मिसाइल डिस्ट्रॉयर (Stealth Guided Missile Destroyers) का निर्माण किया जा रहा है जोकि  कोलकाता क्लास (15-A) विध्वंसक (Destroyers) के आगे की कड़ी में है। 

आपको बता दें कि इनका नामकरण – विशाखापत्तनम, मोरमुगाओ, इंफाल और सूरत- देश के चारों कोनों के प्रमुख शहरों के नाम पर किया जाता है। वहीं आईएनएस विशाखापत्तनम (INS Visakhapatnam) नवंबर 2021 नौसेना को भी मिल चुका है और शेष तीन को पानी में उतारा गया है।

वहीं इनका डिजाइन नौसेना के नेवी डिजाइन निदेशालय द्वारा किया गया है और निर्माण मझगांव डॉक शिपबिल्डर्स लिमिटेड (Mazagon Dock Shipbuilders Limited) मुंबई ने करवाया हैं। 

वहीं 7,400 टन के विस्थापन के साथ, वे उन्नत स्टील्थ सुविधाओं की सुविधा देते हैं जिसके चलते रडार क्रॉस सेक्शन भी कम हो जाता है। ये ब्रह्मोस और बराक -8 सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइलों के साथ ही अत्याधुनिक हथियारों और सेंसर से भरे हुए होते हैं।

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

और पढ़ें -

राष्ट्रीय

उत्तर प्रदेश