गंगा की सफाई पर खत्म हुआ करोड़ो का धन फिर भी मैली रही गंगा

जनसंदेश ऑनलाइन ताजा हिंदी ख़बरें सबसे अलग आपके लिए

  1. Home
  2. राष्ट्रीय

गंगा की सफाई पर खत्म हुआ करोड़ो का धन फिर भी मैली रही गंगा

गंगा की सफाई पर खत्म हुआ करोड़ो का धन फिर भी मैली रही गंगा


देश- गंगा की सफाई के का उद्देश्य लेकर केंद सरकार ने गंगा के सफाई हेतु 13000 करोड़ रुपये खर्च किए। इस धन में सबसे अधिक राशि उत्तरप्रदेश की आवंटित हुई। उपलब्ध विवरण के अनुसार केंद्र ने वित्तीय वर्ष 2014-15 से 31 अक्टूबर, 2022 तक NMCG को कुल 13,709.72 करोड़ रुपये जारी किए हैं। 
उस राशि का अधिकांश 13,046.81 करोड़ रुपये NMCG द्वारा खर्च किया गया। इसमें से 4,205.41 करोड़ रुपये उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) को जारी किए गए, जो राज्यों में सबसे अधिक है। 
गंगा की 2,525 किलोमीटर लंबाई का लगभग 1,100 किलोमीटर उत्तर प्रदेश में पड़ता है। केंद्र सरकार ने जून 2014 में 20,000 करोड़ रुपये के कुल बजटीय परिव्यय के साथ नमामि गंगे कार्यक्रम शुरू किया था।
उत्तर प्रदेश के बाद बिहार (3,516.63 करोड़ रुपये), पश्चिम बंगाल (1,320.39 करोड़ रुपये), दिल्ली (1,253.86 करोड़ रुपये) और उत्तराखंड (1,117.34 करोड़ रुपये) का नंबर आता है। 
नमामि गंगे कार्यक्रम (Namami Gange programme) के तहत धन प्राप्त करने वाले अन्य राज्यों में झारखंड (250 करोड़ रुपये), हरियाणा (89.61 करोड़ रुपये), राजस्थान (71.25 करोड़ रुपये), हिमाचल प्रदेश (3.75 करोड़ रुपये) और मध्य प्रदेश (9.89 करोड़ रुपये) शामिल है।

और पढ़ें -

राष्ट्रीय

उत्तर प्रदेश