दलित ने किया मंदिर में प्रवेश, सवर्ण ने की पिटाई मचा हंगामा

जनसंदेश ऑनलाइन ताजा हिंदी ख़बरें सबसे अलग आपके लिए

  1. Home
  2. राष्ट्रीय

दलित ने किया मंदिर में प्रवेश, सवर्ण ने की पिटाई मचा हंगामा

दलित ने किया मंदिर में प्रवेश, सवर्ण ने की पिटाई मचा हंगामा


देश- जोशीमठ में हालात बेकाबू हैं। घरों की दीवारों के साथ लोगों के दिल भी दरक रहे हैं। वहीं उत्तरकाशी के सुदूर इलाके मोरी सामाजिक सौहार्द बिगड़ने का मामला सामने आया है। 
10 दिन पहले यहां एक दलित युवक को जमकर पीटा गया और उसे जलाने का प्रयास किया गया। कारण सिर्फ इतना था कि उसने मंदिर में प्रवेश किया था। युवक का अस्पताल में इलाज जारी है। डॉक्टर का कहना है हालत ठीक है लेकिन उसे सदमा लगा है। पुलिस ने इस मामले में पांच लोगों को हिरासत में लिया है।
इस घटना के बाद मोरी में आंदोलन छिड़ गया है। दलित समाज के लोगों ने मंदिर में प्रवेश के अधिकार को लेकर प्रदर्शन आरम्भ कर दिया है।

जानें मामला-

सालरा के पड़ोसी बैनोल गांव के रहने वाले 22 साल के एक दलित युवक आयुष नौ जनवरी की रात क़रीब आठ बजे मंदिर में गए। उनपर आरोप लगा है कि उन्होंने मंदिर की संदूक व अन्य सामग्री को नुकसान पहुँचाया है। वहीं घटना के बाद बैनोल गांव के कुछ सवर्णों ने कई घंटे तक मारपीट की और उन्हें जलाने का प्रयास किया। उनकी हालत काफी बिगड़ गई। 
सालरा, बैनोल और आसपास के दलित मंदिरों में प्रवेश नहीं करते हैं। आसपास के लोगों का कहना है कि इस मंदिर में दलित प्रवेश नहीं करते हैं यह परंपरा सालों से चली आ रही है।
आयुष की पिटाई किए जाने के अगले ही दिन गांव वालों ने आयुष के परिजनों को मंदिर को अपवित्र करने के लिए दंड स्वरूप सवा लाख रुपये और एक बकरा देने का आदेश सुना दिया।
इसके अलावा उन्हें मंदिर के शुद्धिकरण का ख़र्च देने और देवता के केदारनाथ स्नान (जो 12 साल में एक बार होता है) का खर्च, 20 लाख रुपये, देने का भी आदेश दिया।
भीम आर्मी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मनजीत सिंह नौटियाल बीते शनिवार को बैनोल गांव पहुंचे और प्रशासन की मौजूदगी में ही कह दिया कि "जिस मंदिर में दलितों को प्रवेश करने से रोका जा रहा है उस पर वह बुल्डोज़र चलवा देंगे."
स्थानीय लोगों ने तो इसका विरोध किया ही करणी सेना भी इस मामले में कूद गई है. बीते सोमवार को करणी सेना के नेता शक्ति सिंह के नेतृत्व में मोरी बाज़ार में एक विरोध जुलूस निकाला और नौटियाल की गिरफ़्तारी की मांग की गई।
इस विवाद के तूल पकड़ने के बाद राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग की सदस्य अंजूबाला और पूर्व भाजपा सांसद तरुण विजय भी बैनोल पहुंचकर पीड़ित परिवार से मिले. इसके बाद वह देहरादून में आयुष से भी मिले।

और पढ़ें -

राष्ट्रीय

उत्तर प्रदेश