Free Ration card: इन लोगों को नहीं मिलेगा फ्री राशन, 10 लाख कार्ड हुए रद्द

जनसंदेश ऑनलाइन ताजा हिंदी ख़बरें सबसे अलग आपके लिए

  1. Home
  2. राष्ट्रीय

Free Ration card: इन लोगों को नहीं मिलेगा फ्री राशन, 10 लाख कार्ड हुए रद्द

Image


Free Ration card: अगर आप भी फ्री राशन के लाभार्थी (free ration beneficiary)हैं तो यह खबर बस आपके लिए है क्योंकि अब लोगों को फ्री में गेंहूं, चना चावल नहीं मिलेंगे। 
सरकार करीब 10 लाख राशन कार्ड रद्द करने का प्लान बना रही है। वहीं काफी समय के बाद विभाग ने देशभर से 10 लाख फर्जी राशन कार्डों (10 lakh fake ration cards) को चिंहित भी किया है। वहीं राशन कार्डों की समीक्षा भी अभी चल रही है, और कुछ दिन बाद यह संख्या बढ़ भी सकती है। तो आइये जानते हैं किन लोगों के राशन कार्ड रद्द (ration card canceled) होने की कितनी संभावना है।
फ्री राशन (Free Ration card)का लाभ देश में 80 करोड़ से ज्यादा लोग ले रहे हैं पर देश में करोड़ों लोग ऐसे भी हैं जो इस सुविधा का लाभ लेने के पात्र ही नहीं है. इसके बावजूद भी फ्री राशन सुविधा (ration facility) का लाभ वो सालों से उठा रहे हैं। वहीं हाल ही में सरकार ने 10 लाख अपात्र राशन कार्ड धारकों को चिंहित भी किया है। जिन्हें अब फ्री गेंहू, चना चावल का लाभ नहीं मिल सकेगा क्योंकि अपात्र राशन कार्ड धारकों (ineligible ration card holders) की लिस्ट राशन डीलरों को भेजने के आदेश दिये जा चुके हैं। राशन डीलर नाम चिंहित कर ऐसे कार्ड धारकों की रिपोर्ट जिला मुख्यालयों को सौंपेंगे जिसके बाद इनके कार्ड भी रद्द कर दिये जाएंगे।
एनएफएसए के मुताबिक जो कार्ड धारक इनकम टेक्स पे करते हैं वह इसके अलावा जिनके पास 10 बीघा से ज्यादा जमीन हैं। ऐसे लोगों की भी लिस्ट तैयार की है साथ ही वहीं कार्ड कैंसिल होने वालों में ऐसे लोग भी शामिल हैं जिन्होने पिछले 4 माह में फ्री राशन नहीं लिया है।
साथ ही कुछ लोग ऐसे हैं जो फ्री राशन लेकर व्यापार करते हैं और ऐसे लोगों को भी चिंहित किया गया है। यह बताया जा रहा है कि फर्जी तरीके से राशन कार्ड का यूज करने वालों में सबसे ज्यदा संख्या यूपी की बताई जा रही है पर अभी भी राशन कार्ड धारकों की पात्रता चैक करने का काम जारी है।
Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

और पढ़ें -

राष्ट्रीय

उत्तर प्रदेश