Republic Day 2023:- संविधान सिर्फ अधिकार नहीं देता, जानें क्या हैं आपके कर्तव्य

जनसंदेश ऑनलाइन ताजा हिंदी ख़बरें सबसे अलग आपके लिए

  1. Home
  2. राष्ट्रीय

Republic Day 2023:- संविधान सिर्फ अधिकार नहीं देता, जानें क्या हैं आपके कर्तव्य

Republic Day 2023:- संविधान सिर्फ अधिकार नहीं देता, जानें क्या हैं आपके कर्तव्य


26 जनवरी:- भारत इस साल अपना 74 वां गणतंत्र दिवस मना रहा है। प्रत्येक भारत वासी इस दिन गर्व से झूमता है। क्योंकि यह दिन भारत के गौरव का दिन है। इस दिन देश मे गणराज्य लागू हुआ था और भारत के प्रत्येक नागरिक को अधिकारों वाला संविधान मिला था। 
संविधान की नजर में समाज मे मौजद सभी व्यक्ति अपनी स्वेक्षा से जीवन जीने का अधिकार रखते हैं और कोई किसी पर अपनी विचारधारा या अपने स्मार्थ्य को नही थोप सकता। भारत की आजादी के बाद जब संविधान लागू हुआ तो इसने भारत के नागरिकों को आजादी का मतलब बताया और उन्हें आजादी के मूल से परिचित करवाया।
संविधान के मुताबिक समाज मे प्रत्येक व्यक्ति मनुष्य है। कोई भी किसी के साथ जाति धर्म सम्प्रदाय के आधार पर भेदभाव नही कर सकता। प्रत्येक व्यक्ति के पास अपना जीवन अपने नियम और निर्देश के मुताबिक जीने का अधिकार है। वहीं व्यक्ति जो चाहें अपनी स्वेक्षा से कर सकता है कोई भी उसके जीवन में दखल नहीं कर सकता।
भारतीय संविधान के मुताबिक जहां भारत के प्रत्येक नागरिक के पास कई मूलभूत अधिकार हैं वहीं देश के प्रति उसके कुछ मूल कर्तव्य भी हैं। जिनका पालन करना व्यक्ति के लिए आवश्यक है। संविधान के मुताबिक व्यक्ति के 11 मौलिक कर्तव्य हैं। जो इस प्रकार हैं।

भारत के नागरिकों के मूलभूत कर्तव्य-

  1. प्रथम कर्तव्य यह है कि समस्त भारतीय नागरिकों को संविधान का आदर-सम्मान करना होगा और साथ ही उसको सर्वमान्य मानकर उसका पालन करना होगा और इसके साथ ही तिरंगा व राष्ट्रगान का आदर-सम्मान करना।
  2. जिन गौरवपूर्ण व्यक्तियों के कार्यों ने हमें आजादी दिलवाई एवं भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में जिन्होंने अपना बलिदान दिया उनका आदर व सम्मान करना।
  3. राष्ट्र की एकता, अखंडता और संप्रभुता की रक्षा करना और उसका आदर एवं गौरवपूर्ण सम्मान करना।
  4. राष्ट्र की विचारधारा और राष्ट्र के आदर्श मूल्यों की रक्षा करना।
  5. भारतीय संस्कृति का संरक्षण कर उसे बढ़ावा देना।
  6. प्रत्येक नागरिकों को एकसमान आदर एवं सम्मान देना एवं उसको प्राप्त अधिकारों का सम्मान करना।
  7. प्राकृतिक संपदा का संरक्षण करना और उसकी वृद्धि हेतु अनेको प्रयत्न करना।
  8. वैज्ञानिक मानदंडों को अपनाना और राष्ट्र के विकास हेतु नवीन ज्ञान के क्षेत्र में वृद्धि करना।
  9. भारतीय सार्वजनिक संपत्ति की प्रत्येक परिस्थिति में रक्षा करना उसे हानि न पहचाना।
  10. राष्ट्र के विकास हेतु सामाजिक कार्यो में अपना योगदान देना।
  11. यह प्रत्येक माता-पिता का उत्तरदायित्व होगा कि वह अपने बच्चो को प्राथमिक निःशुल्क शिक्षा (6 से 14 वर्ष) प्रदान करवाए।

और पढ़ें -

राष्ट्रीय

उत्तर प्रदेश