Jansandesh online hindi news

दिल्ली में 24 घंटे कोरोना के करीब 23 हजार केस, रेस्टोरेंट और बार भी बंद, जानें क्या-क्या नए प्रतिबंध लगा सकती है सरकार

कोरोना संक्रमण की बढ़ती रफ्तार को नियंत्रित करने के लिए डीडीएमए कुछ नए प्रतिबंध लगा सकता है। दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (DDMA Meeting Today) ने सोमवार को कोविड-19 संक्रमण पर रोक लगाने के लिए लॉकडाउन नहीं लगाने का फैसला किया। डीडीएमए ने साथ ही रेस्तरां में बैठकर भोजन करने की सुविधा बंद करने और मेट्रो ट्रेन-बसों में सवारियों की संख्या कम करने जैसी अन्य पाबंदी लगाने पर विचार किया।
 | 
दिल्ली में 24 घंटे कोरोना के करीब 23 हजार केस, रेस्टोरेंट और बार भी बंद, जानें क्या-क्या नए प्रतिबंध लगा सकती है सरकार

नई दिल्ली ।दिल्ली में कोरोना संक्रमण की बढ़ती रफ्तार को नियंत्रित करने के लिए डीडीएमए कुछ नए प्रतिबंध लगा सकता है। दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (DDMA Meeting Today) ने सोमवार को कोविड-19 संक्रमण पर रोक लगाने के लिए लॉकडाउन नहीं लगाने का फैसला किया। डीडीएमए ने साथ ही रेस्तरां में बैठकर भोजन करने की सुविधा बंद करने और मेट्रो ट्रेन-बसों में सवारियों की संख्या कम करने जैसी अन्य पाबंदी लगाने पर विचार किया।

उप राज्यपाल अनिल बैजल की अध्यक्षता में डीडीएमए की एक बैठक में इस बात पर चर्चा की गई कि मौजूदा पाबंदियों को कैसे सख्ती से लागू किया जाए ताकि कोरोना वायरस और इसके नए स्वरूप ओमीक्रोन के फैलने पर अंकुश लगाया जा सके। बैठक में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी शामिल थे। बैठक में इस बात पर मंथन हुआ कि दिल्ली में लगाई गई पाबंदियों को समूचे राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में भी लागू करना चाहिए। हालांकि, केजरीवाल सरकार दिल्ली मेट्रो में 50% कैपेसिटी करने के पक्ष में नहीं है।

डीडीएमए के ग्रेडेड रिस्पॉन्स एक्शन प्लान (GRAP) के लेवल चार यानी रेड अलर्ट को लागू करने की शर्त निर्धारित है। यदि पॉजिटिविटी रेट लगातार दो दिनों तक 5 फीसदी से अधिक रहती है, सात दिनों की अवधि में 16000 से अधिक मामले या अस्पतालों में औसतन 3000 ऑक्सिजन बेड्स का लगातार सात दिनों तक भरे रहते हैं तो रेट अलर्ट को लागू किया जाता है। इससे पूरी तरह कर्फ्यू यानी लॉकडाउन, गैर-जरूरी दुकानों, मेट्रो जैसी गतिविधियों पर रोक लग जाएंगी।

रेड अलर्ट लागू होने पर प्रतिबंध

  • सिर्फ वही कंस्ट्रक्शन होंगे जहां ऑनसाइट लेबर रह रही है
  • इंडस्ट्री प्रोडक्शन और मैन्युफैक्चरिंग यूनिट बंद रहेंगी, ऑनसाइट वर्कर के साथ जरूरी चीजों की इंडस्ट्री खुलेंगी
  • जरूरी चीजों को छोड़कर सभी दुकानें बंद रहेंगी, स्टैंड अलोन दुकानें सुबह 10 से शाम 6 बजे तक खुल सकती हैं
  • मॉल्स बंद रहेंगे
  • वीकली मार्केट बंद रहेंगे
  • मेट्रो बंद, बसों में केवल जरूरी सेवाओं के लोगों को ही इजाजत, सिटिंग कैपेसिटी के हिसाब से 50 फीसदी को इजाजत

ओमीक्रोन के कारण बढ़ रहे कोरोना केस
पिछले कुछ दिनों में कोविड के दैनिक मामलों में तेजी देखी जा रही है। ऐसा मुख्य रूप से संक्रमण के ओमीक्रोन स्वरूप के कारण हुआ है। दिल्ली के स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार राजधानी में रविवार को कोरोना के 22,751 नए केस सामने आए थे। वहीं, सात रोगियों की मौत हुई। दिल्ली में कोरोना की संक्रमण दर 23.53 प्रतिशत पहुंच चुकी है। डीडीएमए ने वायरस को फैलने से रोकने के लिये शहर में वीकेंड कर्फ्यू लागू किया है।

सीएम ने लॉकडाउन लगाने से किया था इनकार
इससे पहले रविवार को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि लॉकडाउन लागू करने की फिलहाल कोई योजना नहीं है। उन्होंने साफ रूप से कहा था कि यदि लोग मास्क पहनने के नियम का पालन करते हैं, तो लॉकडाउन नहीं लगाया जाएगा। उन्होंने कहा कि दिल्ली में रविवार को 24 घंटे में कोविड-19 के 22 हजार मामले दर्ज होने की आशंका है। उन्होंने लोगों से मास्क पहनने की अपील की थी।

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।