Jansandesh online hindi news

CBI ने 50 हजार रुपये की रिश्वत लेते सब-इंस्पेक्टर को रंगेहाथ पकड़ा,आवास से 1.12 करोड़ रुपये Cash बरामद 

इंस्पेक्टर द्वारा उसे यह धमकी दी गई कि अगर वह पैसे नहीं देगा तो उसकी जमानत याचिका का वह कोर्ट के सामने जमकर विरोध करेगा. सीबीआई ने बताया कि, "सीबीआई ने जाल बिछाकर शिकायतकर्ता से 50,000 रुपये की रिश्वत मांगते और स्वीकार करते हुए सब-इंस्पेक्टर को रंगेहाथ पकड़ लिया." इसके बाद सीबीआई ने भोजराज सिंह के ठिकानों पर छापेमारी की, जिसमें उनकी कार से 5.47 लाख रुपये नकद, उनके आवास से 1.07 करोड़ रुपये , कुछ दस्तावेज और अन्य सामान बरामद हुए. सिंह को अदालत में पेश किया जाएगा.
 | 
CBI ने 50 हजार रुपये की रिश्वत लेते सब-इंस्पेक्टर को रंगेहाथ पकड़ा,आवास से 1.12 करोड़ रुपये Cash बरामद 

नई दिल्ली: केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) ने दिल्ली पुलिस के एक सब-इंस्पेक्टर की कार और आवास से 1.12 करोड़ रुपये नकद बरामद किए हैं. बता दें कि बुधवार को इसी इंस्पेकटर को अधिकारियों ने 50,000 रुपये की रिश्वत लेते हुए पकड़ा था. दिल्ली के मैदान गढ़ी पुलिस स्टेशन में तैनात सब-इंस्पेक्टर भोजराज सिंह को सीबीआई ने 50 हजार रुपये की रिश्वत मांगते और लेते हुए पकड़ा था.

अधिकारियों के अनुसार, एक शिकायतकर्ता ने सीबीआई से संपर्क किया था. उसने आरोप लगाया था कि उसके खिलाफ हुई एक FIR के मामले सब-इंस्पेक्टर ने शुरू में उससे 5 लाख रुपये की रिश्वत मांगी थी. इसके बाद 27 अक्टूबर को 2 लाख रुपये की मांग की थी. सब इंस्पेक्टन ने इन पैसों को बदले उसकी जमानत अर्जी का विरोध न करने की बात कही थी.

शिकायतकर्ता के आरोप के मुताबिक इंस्पेक्टर द्वारा उसे यह धमकी दी गई कि अगर वह पैसे नहीं देगा तो उसकी जमानत याचिका का वह कोर्ट के सामने जमकर विरोध करेगा. सीबीआई ने बताया कि, "सीबीआई ने जाल बिछाकर शिकायतकर्ता से 50,000 रुपये की रिश्वत मांगते और स्वीकार करते हुए सब-इंस्पेक्टर को रंगेहाथ पकड़ लिया." इसके बाद सीबीआई ने भोजराज सिंह के ठिकानों पर छापेमारी की, जिसमें उनकी कार से 5.47 लाख रुपये नकद, उनके आवास से 1.07 करोड़ रुपये , कुछ दस्तावेज और अन्य सामान बरामद हुए. सिंह को अदालत में पेश किया जाएगा. 

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।