Jansandesh online hindi news

26 जनवरी को फिर से ट्रैक्टर मार्च करेंगे किसान, राकेश टिकैत ने फिर दी सरकार को धमकी !

किसान नेता  राकेश टिकैत ने सरकार को धमकी भरे अंदाज में कहा कि अगर सरकार नहीं मानती है तो अब हम लाल किला नहीं नए संसद भवन पहुचेंगे. उन्होंने कहा 26 जनवरी को फिर से अलग-अलग जगहों पर ट्रैक्टर मार्च करेंगे. इसके अलावा टिकैट ने कहा कि ये सरकार दूध के दाम सस्ते करने को लेकर भी कोई समझौता करने वाली है. हम उसका भी विरोध करेंगे.
 | 
26 जनवरी को फिर से ट्रैक्टर मार्च करेंगे किसान, राकेश टिकैत ने फिर दी सरकार को धमकी !

नई दिल्ली: किसान नेता राकेश टिकैत (Rakesh Tikait)ने सरकार को फिर धमकी दी है. टिकैट ने कहा है कि 26 जनवरी को किसान फिर देश के अलग-अलग जगहों पर ट्रैक्टर मार्च (Tractor Parade) निकालेंगे. उन्होंने कहा कि 15 जनवरी को संयुक्त किसान मोर्चा की बैठक होगी.

जानकारी के अनुसार, राकेश टिकैट ने कहा कि ‘ MSP को लेकर सरकार ने अभी तक कोई कमेटी नहीं बनाई है न ही इसे लेकर सरकार ने कोई बात-चीत की है. उन्होंने कहा कि अगर सरकार ने इसे लेकर कोई बात नहीं की तो किसान तैयार हैं.

किसान आंदोलन को लेकर टिकैट ने कहा कि 15 जनवरी को संयुक्त किसान मोर्चा की मीटिंग होगी. दिल्ली के बॉर्डर पर 13 महीने तक चला आंदोलन तो किसानों की ट्रेंनिंग थी. उन्होंने कहा कि अब हमें पता चल गया है कि सरकार ने अगर मांगें नहीं मानी तो हम जानते हैं कि जनवरी में और जून में आंदोलन कैसे करना है.

किसान नेता ने सरकार को धमकी भरे अंदाज में कहा कि अगर सरकार नहीं मानती है तो अब हम लाल किला नहीं नए संसद भवन पहुचेंगे. उन्होंने कहा 26 जनवरी को फिर से अलग-अलग जगहों पर ट्रैक्टर मार्च करेंगे. इसके अलावा टिकैट ने कहा कि ये सरकार दूध के दाम सस्ते करने को लेकर भी कोई समझौता करने वाली है. हम उसका भी विरोध करेंगे.

बता दें कि पिछली साल गणतंत्र दिवस (Republic Day 2021) के दिन आंदोलनकारी किसानों की ट्रैक्टर परेड (Tractor Parade) के दौरान बड़ी संख्या में उग्र प्रदर्शनकारी बैरियर तोड़ते हुए लाल किले तक पहुंच गए और उसकी प्राचीर पर उस स्तंभ पर एक धार्मिक झंडा लगा दिया, जहां 15 अगस्त को प्रधानमंत्री भारत का तिरंगा फहराते हैं. लाल किले में घुसे प्रदर्शनकारियों ने जमकर उत्पात मचाया और टिकट काउंटर में भी तोड़फोड़ की. पुलिस ने रात करीब साढ़े 10 बजे तक प्रदर्शनकारियों से लाल किला को खाली कराया और धार्मिक झंडे को भी हटा दिया. हजारों प्रदर्शनकारी कई स्थानों पर पुलिस से भिड़े, जिससे दिल्ली और आसपास के क्षेत्रों में अराजकता की स्थिति उत्पन्न हो गई थी.

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।