Jansandesh online hindi news

शिक्षक पर्व का पहला सम्मलेन आज

प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) ने रविवार को कहा कि इस साल के आयोजन की थीम ‘क्वालिटी एंड सस्टेनेबल स्कूल: लर्निंग फ्रॉम स्कूल्स इन इंडिया’ है
 | 
jpg फाइल
क्वालिटी एंड सस्टेनेबल स्कूल: लर्निंग फ्रॉम स्कूल्स इन इंडिया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज के दिन ‘शिक्षक पर्व’ के समापन के दौरान वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए शिक्षकों और छात्रों से बात करेंगे | इस मौके पर वह शिक्षा के क्षेत्र में कई अहम पहलों का भी शुभारंभ करेंगे।यह शिक्षकों के बहुमूल्य योगदान की मान्यता और नई शिक्षा नीति (एनईपी) 2020 को एक कदम आगे ले जाने के लिए है।

प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) ने रविवार को कहा कि इस साल के आयोजन की थीम ‘क्वालिटी एंड सस्टेनेबल स्कूल: लर्निंग फ्रॉम स्कूल्स इन इंडिया’ है। 

प्रधान मंत्री ने सीबीएसई, निष्ठा के लिए भारतीय सांकेतिक भाषा शब्दकोश (सार्वभौमिक डिजाइन के अनुसार श्रवण बाधितों के लिए ऑडियो और टेक्स्ट एम्बेडेड सांकेतिक भाषा वीडियो), भाषण पुस्तकें (दृष्टिहीनों के लिए ऑडियो पुस्तकें), स्कूल गुणवत्ता आश्वासन और मूल्यांकन ढांचे का शुभारंभ किया |

पीएमओ ने नोट किया कि ‘शिक्षक पर्व’ उत्सव न केवल सभी स्तरों पर शिक्षा की निरंतरता सुनिश्चित करने के लिए, बल्कि देश भर के स्कूलों में प्रथाओं और स्थिरता सहित गुणवत्ता में सुधार के लिए नवीन प्रथाओं को प्रोत्साहित करेगा। इस कार्यक्रम में केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान और अन्य संघ के शिक्षा मंत्री भी शामिल होंगे।                  

“शिक्षा सम्मेलन के बाद 17 सितंबर तक वेबिनार, चर्चाएं और प्रस्तुतियां होंगी | देश के विभिन्न स्कूलों के शैक्षिक चिकित्सकों को अपने अनुभव को आगे के रोडमैप को साझा करने के लिए आमंत्रित किया गया है। यह उल्लेखनीय है कि शिक्षक और चिकित्सक समान दूरी से हैं। स्कूल स्कूल में गुणवत्ता और नवाचार से संबंधित मुद्दों पर बात करेंगे, ”पीटीआई ने एक अधिकारी के हवाले से कहा "।

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।