Jansandesh online hindi news

सैकड़ों को जिंदा दफना दिया, अब ग्रामीणों ने खुदायी की तो मचा कोहराम !

शिवमोगा के एसपी लक्ष्मी प्रसाद ने बताया कि ग्राम पंचायत अधिकारियों ने कथित तौर पर कुत्तों को जहर देकर मार डाला और उन्हें दफना दिया। पंचायत अधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज पशु चिकित्सकों की एक विशेषज्ञ टीम मौके का निरीक्षण कर रही है। जल्द ही विभाग को रिपोर्ट सौंपी जाएगी। उन्होंने कहा कि मारे गए और दफनाए गए कुत्तों की संख्या के बारे में अभी कोई स्पष्ट जानकारी नहीं है।

 | 
सैकड़ों का जिंदा दफना दिया, अब ग्रामीणों ने खुदायी की तो मचा कोहराम !

शिवमोगा। ग्रामीणों से मिली सूचना के बाद शिवमोगा एनिमल रेस्क्यू क्लब के सदस्यों ने उस जगह का दौरा किया। पशु चिकित्सकों और पुलिस की मदद से शवों को बाहर निकाला गया। पुलिस की शुरुआती जांच में सामने आया कि ग्राम पंचायत के आदेश पर ही कुत्तों को जहर दिया गया। इसलिए अब पंचायत अधिकारियों के खिलाफ केस दर्ज कर आगे की जांच की जा रही है। 

आपको बता दें कर्नाटक के शिवमोगा में क्रूरता की सारी हदें पार करते हुए सैकड़ों बेजुबानों को जहर देकर मार दिया गया। 100 से अधिक आवारा कुत्ता को जहर देने का मामला आया है। इन कुत्तों को शिवमोगा जिले के भद्रावती तालुक के एक गांव में दफनाया गया। पुलिस ने ग्राम पंचायत अधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज किया है।

कुत्तों के शव बाहर निकाले गए
यह घटना 150 बंदरों के मारे जाने के कुछ हफ्ते बाद की है। कुत्तों को जहर देने की घटना भद्रावती तालुक में कंबादालु-होसुर ग्राम पंचायत की है।

कुत्तों को जिंदा तो नहीं दफनाया गया?
एनिमल रेस्क्यू क्लब के कार्यकर्ताओं ने शक जाहिर किया है कि यह भी हो सकता है कि कुत्तों को जिंदा दफना दिया गया हो। शिवमोगा के एसपी लक्ष्मी प्रसाद ने बताया कि ग्राम पंचायत अधिकारियों ने कथित तौर पर कुत्तों को जहर देकर मार डाला और उन्हें दफना दिया। पंचायत अधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज पशु चिकित्सकों की एक विशेषज्ञ टीम मौके का निरीक्षण कर रही है। जल्द ही विभाग को रिपोर्ट सौंपी जाएगी। उन्होंने कहा कि मारे गए और दफनाए गए कुत्तों की संख्या के बारे में अभी कोईस्पष्ट जानकारी नहीं है। हालांकि शिवमोग्गा एनिमल रेस्क्यू क्लब की तरफ से मारे गए कुत्तों की संख्या 100 से अधिक बताई जा रही है।

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।