Jansandesh online hindi news

नवजोत सिंह सिद्धू का सोशल मीडिया पर दिया गया इस्तीफा अभी भी बना हुआ रहस्य 

 | 
 नवजोत सिंह सिद्धू का सोशल मीडिया पर दिया गया इस्तीफा अभी भी बना हुआ रहस्य 

चंडीगढ़

पंजाब के पीसीसी अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) का सोशल मीडिया पर दिया गया इस्तीफा अभी भी रहस्य बना हुआ है. लखीमपुर खीरी घटनाक्रम (Lakhimpur Kheri incident) के बाद जब उन्होंने बतौर अध्यक्ष यूपी के लिए मार्च निकाला तो सियासी गलियारों में उनके इस्तीफे को लेकर कई तरह की चर्चाएं सामने आईं.

सिद्धू के समर्थन में रजिया सुल्तान (Razia Sultan) ने मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था, हालांकि बीते सोमवार को वह कैबिनेट की मीटिंग में जा पहुंची. सिद्धू के इस्तीफा देने के बाद उनकी जगह नए अध्यक्ष की तैनाती भी काफी सुखिर्यों में रही लेकिन यूपी मार्च के बाद अब सिद्धू के सोशल मीडिया पर दिए गए इस्तीफे पर पंजाब कांग्रेस इंचार्ज हरीश रावत ने कहा कि कौन से इस्तीफा?, मैंने तो नहीं देखा, सिर्फ खबरों में पढ़ा कि सिद्धू ने इस्तीफा दिया है.

नवजोत सिद्धू के कारण अभी भी कांग्रेस में अनिश्चितता का माहौल कायम है, चूंकि वह पंजाब में अपनी ही सरकार के खिलाफ कभी भी मोर्चा खोल देते हैं, जब देश में कोयले की कमी की खबरें सामने आने लगी तो उन्होंने चन्नी सरकार के खिलाफ ही मोर्चा खोल दिया. कैप़्टन अमरिंदर सिंह की बात करें तो उन्हें सिद्धू ने इस कदर घेरा की वह कांग्रेस की राजनीति छोड़ खुद ही हाशिए पर चले गए हैं. सिद्धू अपने उसूलों की दुहाई देकर मुख्यमंत्री चरणजीत चन्नी के भी उस वक्त खिलाफ हो गए जब पंजाब में डीजीपी इकबालप्रीत सहोता और एडवोकेट जनरल एपीएस देओल को नियुक्त किया गया.

जानकारों का मानना है कि सोशल मीडिया में इस्तीफा डालने के बाद सिद्धू संकट में आ गए थे, क्योंकि कांग्रेस हाईकमान भी सिद्धू का परमानेंट हल करने में जुट गया था. इत्तेफाक से लखीमपुर खीरी में हुई घटना के बाद सिद्धू सक्रिय हो उठे जिस वजह से राजनीतिक समीकरण उनकी फेवर में चले गए. यूपी मार्च निकालने पर भी उन्होंने अपने सीएम बनने की महत्वाकांक्षा को फिर जाहिर किया जिसका वीडियो भी वायरल हो गया. यही नहीं उन्होंने सीएम चरणजीत चन्नी के बेटे की शादी में भी शिरकत नहीं की जिससे उनके मतभेदों की कई तरह की खबरें अखबारों की सुर्खियों में रही.

इसके अलावा सिद्धू कांग्रेस की कार्यकारिणी का भी गठन नहीं कर पाए हैं. उनके इस्तीफे को मंजूर किया गया है नहीं यह एक रहस्य है, लेकिन यह माना जा रहा है कि सिद्धू ज्यादा मनमानी करते हैं तो कांग्रेस ने उनका विकल्प खोज रखा है, क्योंकि वह कभी भी कुछ भी कर देते हैं, इससे कांग्रेस हाईकमान अच्छी तरह से परिचित है.

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।