Jansandesh online hindi news

न्यूज लांड्री;- सोशल मीडिया और टीवी पर की गई टिप्पणी अभिव्यक्ति की आजादी नही लगाया जा सकता प्रतिबंध

 | 
Social media it rules

दिल्ली: दिल्ली हाई कोर्ट ने सोशल मीडिया और टीवी के माध्यम से की जा रही टिप्पणीयों को अभिव्यक्ति की आजादी बताया है। कोर्ट ने कहा यह हर व्यक्ति का अधिकार है कि वह किसी भी मुद्दे पर अपनी राय प्रखरता के साथ रख सके। यह उसका अधिकार है। वह दूसरे के बनाए नियमो की आलोचना कर सकता है। कोर्ट ने यह टिप्पणी एक मीडिया हाउस द्वारा दाखिल याचिका पर की ओर उसकी याचिका को खारिज कर दिया।

जस्टिस आशा मोहन ने कहा कि अगर सूचना का अधिक प्रसार होगा तो समाज जानकार बनेगा। किसी की टिप्पणी पर संविधान के नियमों के तहत ही नहीं प्रतिबंध लगा सकते हैं। क्योंकि संविधान सभी को अभिव्यक्ति की आजादी देता है। संविधान के मुताबिक जब हम किसी व्यक्ति की टिप्पणी पर प्रतिबंध लगाते है तो वह तार्किक होना चाहिए। जैसे उस व्यक्ति की टिप्पणी से राष्ट्रीय सुरक्षा, कानून व्यवस्था और मानहानि का खतरा हो। 
जानकारी के लिये बता दें अदालत मीडिया हाउस की ऑनलाइन समाचार पोर्टल न्यूज लॉन्ड्री के खिलाफ याचिका पर सुनवाई कर रही थी। न्यूज लॉन्ड्री पर आरोप लगाया गया था कि यह वेबपोर्टल अपनी खबरों के माध्यम से समाचार चैनलों की खबरों का मजाक बनाता है और एंकरों की बेज्जती करता है। लेकिन कोर्ट ने मीडिया हाउस की इस याचिका को खारिज कर दिया है ओर दावा किया है कि कोर्ट किसी की टिप्पणी को प्रतिबंधित नही कर सकता यह उसकी अभिव्यक्ति की आजादी है।
Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।