Jansandesh online hindi news

पीयूष गोयल ने कोविड -19 के खिलाफ एक प्रारंभिक सार्वभौमिक टीकाकरण की आवश्यकता को रेखांकित किया

वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने वैक्सीन भेदभाव या कोविड पासपोर्ट जैसे नए व्यापार अवरोधों को खत्म करने का आह्वान किया है
 | 
Piyush Goyal
भारत को आसियान देशों को कृषि और ऑटो क्षेत्र में निर्यात पर कई प्रतिबंधात्मक बाधाओं का सामना करना पड़ा है | 

वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने वैक्सीन भेदभाव या कोविड पासपोर्ट जैसे नए व्यापार अवरोधों को खत्म करने का आह्वान किया है, जो गतिशीलता प्रतिबंध लगाते हैं और महत्वपूर्ण सेवाएं देने के लिए आवश्यक कर्मियों की आवाजाही को बाधित करते हैं।वाणिज्‍य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने आसियान देशों से गैर-टैरिफ बाधाओं को दूर करने का आह्वान किया है। भारतीय उद्योग परिसंघ द्वारा आयोजित एक सम्‍मेलन को संबोधित करते हुए उन्होंने आसियान के बाहर भी मुक्त व्यापार समझौतों के दुरुपयोग को रोकने का आह्वान किया। श्री गोयल ने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि हाल के दिनों में, भारत को आसियान देशों को कृषि और ऑटो क्षेत्र में निर्यात पर कई प्रतिबंधात्मक बाधाओं का सामना करना पड़ा है | 

 

इटली में G20 व्यापार और निवेश मंत्रिस्तरीय बैठक में स्वास्थ्य सेवाओं के मुक्त प्रवाह के लिए उन्हें सुलभ और अधिक किफायती बनाने के लिए, उन्होंने आपूर्ति बाधाओं को कम करने के लिए बौद्धिक संपदा अधिकारों (IPR) की छूट पर भी जोर दिया | "महामारी के प्रति हमारी प्रतिक्रिया को आपूर्ति पक्ष की बाधाओं के त्वरित समाधान को सुनिश्चित करके टीकों और अन्य कोविड -19 संबंधित स्वास्थ्य उत्पादों तक समान पहुंच सुनिश्चित करने की आवश्यकता है," उन्होंने कहा, इसे प्रदर्शित करने का एक तरीका व्यापार को स्वीकार करना है- बौद्धिक संपदा अधिकार (ट्रिप्स) छूट प्रस्ताव के संबंधित पहलू |

 

प्रस्ताव-संयुक्त रूप से भारत और दक्षिण अफ्रीका द्वारा एक साल पहले जारी किया गया था | विश्व व्यापार संगठन के सभी सदस्यों के लिए कॉपीराइट, औद्योगिक डिजाइन, पेटेंट और ट्रिप्स समझौते में अज्ञात जानकारी के संरक्षण के कुछ प्रावधानों से रोकथाम, रोकथाम या उपचार के लिए छूट की मांग करना। कोविड -19 के।

   

उन्होंने कहा कि इन प्रतिबंधों के परिणामस्वरूप भारत सहित अन्य देशों द्वारा पारस्परिक कार्रवाई किए जाने से संबंधित देशों के बीच व्यापार पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा। श्री गोयल ने आसियान देशों से भारत के साथ व्यापार असंतुलन को ठीक करने के लिए भारत से आयात पर रियायतें देने का भी आह्वान किया। इन दिनों आसियान देशों से भारत में किया जाने वाला आयात तेजी से बढ़ रहा है, जबकि यहां से होने वाले निर्यात को कई बाधाओं का सामना करना पड़ता है।

 

वाणिज्‍य मंत्री ने कहा कि लगभग 80 बिलियन डॉलर मूल्‍य के भारत-आसियान व्‍यापार के साथ यह क्षेत्र विश्व स्तर पर बड़े व्यापारिक क्षेत्रों में से एक बन गया है। उन्‍होंने कहा कि इस बढ़ते व्यापार के बावजूद हम 200 बिलियन डॉलर के उस लक्ष्य से काफी पीछे है, जिसे भारत और आसियान को वर्ष 2022 तक हासिल करना था।

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।