Jansandesh online hindi news

पीएम मोदी आज राष्‍ट्रपति से मिलेंगे, PM MODI की सुरक्षा में चूक पर पंजाब में बड़ा ऐक्‍शन होगा? 

पीएम मोदी की राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात होगी। न्‍यूज एजेंसी ANI ने सूत्रों के हवाले से यह जानकारी दी। राष्‍ट्रपति ने प्रधानमंत्री के पंजाब दौरे में सुरक्षा में चूक पर चिंता भी जताई। पीएम की सुरक्षा में चूक का मामला सुप्रीम कोर्ट भी पहुंच चुका है। SC ने केंद्र और राज्‍य सरकार को नोटिस दिया है। उधर, बीजेपी ने इस मुद्दे को लेकर पंजाब की कांग्रेस सरकार पर हमला बोल रखा है।
 | 
पीएम मोदी आज राष्‍ट्रपति से मिलेंगे, PM MODI की सुरक्षा में चूक पर पंजाब में बड़ा ऐक्‍शन होगा? 

नई दिल्‍ली । बुधवार सुबह पीएम मोदी पंजाब में बठिंडा पहुंचे, जहां से वह हेलीकॉप्टर से हुसैनीवाला स्थित राष्ट्रीय शहीद स्मारक जाने वाले थे। बारिश और खराब दृश्यता के कारण पीएम ने करीब 20 मिनट तक मौसम साफ होने का इंतजार किया। मौसम में सुधार नहीं हुआ तो निर्णय लिया गया कि पीएम सड़क मार्ग से जाएंगे, जिसमें दो घंटे से अधिक समय लगता। हुसैनीवाला स्थित राष्ट्रीय शहीद स्मारक से करीब 30 किलोमीटर की दूरी पर, जब प्रधानमंत्री का काफिला एक फ्लाईओवर पर पहुंचा, तो यह पाया गया कि कुछ प्रदर्शनकारियों ने सड़क को जाम कर दिया है। प्रधानमंत्री 15-20 मिनट तक फ्लाईओवर पर फंसे रहे। इस सुरक्षा चूक के बाद, बठिंडा एयरपोर्ट पर वापस लौटने का निर्णय लिया गया।

पंजाब में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में चूक पर ऐक्‍शन लिया जा सकता है। गुरुवार को पीएम मोदी की राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात होगी। न्‍यूज एजेंसी ANI ने सूत्रों के हवाले से यह जानकारी दी। राष्‍ट्रपति ने प्रधानमंत्री के पंजाब दौरे में सुरक्षा में चूक पर चिंता भी जताई। पीएम की सुरक्षा में चूक का मामला सुप्रीम कोर्ट भी पहुंच चुका है। SC ने केंद्र और राज्‍य सरकार को नोटिस दिया है। उधर, बीजेपी ने इस मुद्दे को लेकर पंजाब की कांग्रेस सरकार पर हमला बोल रखा है। चरणजीत सिंह चन्नी सरकार ने मामले की जांच के लिए हाई लेवल कमिटी बनाई है। इस मामले से जुड़ी ताजा अपडेट्स के लिए बने रहें हमारे साथ।

राष्‍ट्रपति कोविंद ने गुरुवार को पीएम मोदी की सुरक्षा में चूक पर चिंता जाहिर की। फिर यह भी खबर आई कि पीएम खुद राष्‍ट्रपति से मिलने जाएंगे। ऐसे में सोशल मीडिया पर चर्चा तेज हो गई है कि क्‍या केंद्र सरकार कोई बड़ा ऐक्‍शन लेने वाली है। पूर्व मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने पंजाब में राष्‍ट्रपति शासन लगाने की मांग की है। पंजाब के विपक्षी दलों ने भी एक सुर में पीएम में सुरक्षा में चूक की निंदा की है। हालांकि सीएम चन्‍नी ने इन आरोपों का जिम्‍मा लेने से साफ इनकार कर दिया। उन्‍होंने साफ कहा कि पीएम मोदी को कोई खतरा नहीं था।

पंजाब की जो घटना है, उसकी जांच होनी चाहिए। आखिर एसपीजी पीएम को ले जाने के लिए क्यों तैयार हुई? इसकी भी जांच होनी चाहिए कि वहां की पुलिस का क्या रोल रहा है? देश का प्रधानमंत्री कोई भी हो, आज मोदी हैं, कल कोई दूसरा होगा, पीएम की सुरक्षा का खास ख्याल रखा जाना चाहिए।

SC पहुंचा सुरक्षा में चूक का मामला
सीनियर एडवोकेट मनिंदर सिंह ने चीफ जस्टिस एनवी रमन से इस पूरे मामले की शिकायत की है। सिंह ने कहा कि यह पंजाब सरकार की ओर से एक गंभीर चूक है। प्रधानमंत्री का काफिला सड़क पर फंस गया था, जिससे अस्वीकार्य सुरक्षा उल्लंघन हुआ था। शीर्ष अदालत ने सिंह से पूछा, वह अदालत से क्या उम्मीद कर रहे हैं? सिंह ने कहा कि यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि यह दोबारा न हो और गहन जांच की जरूरत है। उनकी याचिका पर संज्ञान लेते हुए कोर्ट ने कहा कि केंद्र और पंजाब की सरकारों को आज ही याचिका की एक-एक कॉपी भेजी जाए।  


गृह मंत्रालय ने इस गंभीर सुरक्षा चूक का संज्ञान लेते हुए पंजाब सरकार से विस्तृत रिपोर्ट मांगी है। मंत्रालय ने कहा कि प्रधानमंत्री के कार्यक्रम और यात्रा की योजना के बारे में पंजाब सरकार को पहले ही जानकारी दे दी गयी थी। पंजाब सरकार को सड़क मार्ग से किसी भी यात्रा को सुरक्षित रखने के लिए अतिरिक्त सुरक्षाकर्मी तैनात करने चाहिए थे।

फिरोजपुर के एसएसपी निलंबित हुए
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पंजाब दौरे के दौरान उनकी सुरक्षा में हुई चूक को लेकर पंजाब सरकार ने कार्रवाई की है। फिरोजपुर के एसएसपी हरमन हंस को निलंबित कर दिया गया है। कांग्रेस प्रवक्ता गौरव वल्लभ ने कहा, हमने दो नेताओं को खो दिया है और हम जानते हैं कि सुरक्षा प्रधानमंत्री का सबसे महत्वपूर्ण मुद्दा है।


 
Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।