Jansandesh online hindi news

खुले में नमाज़ पढ़ने की पुलिस प्रशासन ने 37 स्थानों पर दी अनुमति, विरोध करने पर हिन्दू हिरासत में ! Video Viral 

खुले में जुमे की नमाज का हिन्दू संगठनों समेत कई स्थानीय लोगों में विरोध जताया है। बीते पाँच हफ़्तों से जारी विरोध के बाद भी हल न निकलने से हिन्दू-मुस्लिमों के बीच तनाव बढ़ता जा रहा है। वहीं पुलिस ने कुल 37 स्थानों पर खुले में नमाज़ पढ़ने की अनुमति दी है। जिसके विरोध में हिन्दू महिलाओं के साथ बड़ी तादाद में लोग आज पाँचवें हफ्ते भी भजन-कीर्तन और नारेबाजी करते हुए सड़क पर उतर आए हैं।
 | 
खुले में नमाज़ पढ़ने की पुलिस प्रशासन ने 37 स्थानों पर दी अनुमति, विरोध करने पर हिन्दू हिरासत में ! Video Viral 

चंडीगढ़: रियाणा के गुरुग्राम में शुक्रवार को खुले में जुमे की नमाज का हिन्दू संगठनों समेत कई स्थानीय लोगों में विरोध जताया है। बीते पाँच हफ़्तों से जारी विरोध के बाद भी हल न निकलने से हिन्दू-मुस्लिमों के बीच तनाव बढ़ता जा रहा है। वहीं पुलिस ने कुल 37 स्थानों पर खुले में नमाज़ पढ़ने की अनुमति दी है। जिसके विरोध में हिन्दू महिलाओं के साथ बड़ी तादाद में लोग आज पाँचवें हफ्ते भी भजन-कीर्तन और नारेबाजी करते हुए सड़क पर उतर आए हैं। विरोध करने के लिए गुरुग्राम के सेक्टर-12-ए इलाके में पहुँचे हिंदू संगठनों के प्रतिनिधियों को गुरुग्राम पुलिस ने हिरासत में लिया है। हिरासत में लिए गए लोगों की तादाद लगभग 30 बताई जा रही है।


मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, मुस्लिम समूहों ने नूंह और पटौदी से ज्यादा लोगों को ‘समर्थन’ के लिए बुला लिया है। हालाँकि अभी तक यह साफ़ नहीं है कि नूंह और पटौदी के मुस्लिम वास्तव में गुरुग्राम में मौजूद हैं या नहीं। बता दें कि, नूंह मेवात में आता है और कथित तौर पर हाल के दिनों में बड़ी तादाद में वहाँ रोहिंग्याओं को बसाया गया है। मेवात में वही स्थान हैं जो अपनी आपराधिक गतिविधियों की वजह से अक्सर ‘मिनी पाकिस्तान’ के रूप में जाना जाता है। 


मुस्लिम एकता मंच के अध्यक्ष हाजी शहजाद खान ने कहा है कि, 'यदि वे (हिंदू समूह) नारे लगाते हैं, तो हम चुप नहीं बैठेंगे। हम कानून-व्यवस्था की स्थिति को खराब नहीं करना चाहते हैं, किन्तु यदि वे हमें निशाना बनाते हैं, तो हम चुप नहीं बैठेंगे।' हाजी ने आगे कहा कि, 'हम कोई टकराव या संघर्ष नहीं चाहते हैं, हम दूसरी जगह स्थानांतरित होने के लिए तैयार हैं बशर्ते प्रशासन शांति की गारंटी दे सके।'

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।