Jansandesh online hindi news

टेनिस खेलने के बहाने घर ले जाकर जज नें बच्चे से किया अप्राकृतिक सेक्स!

राजस्थान हाई कोर्ट जोधपुर ने आदेश जारी करते हुए न्यायाधीश को निलंबित कर दिया है। न्यायालय में तैनात एक न्यायाधीश पर कक्षा 8 में पढ़ने वाले 14 वर्षीय बालक के साथ अप्राकृतिक सेक्स करने का आरोप लगा है। इसके बाद न्यायाधीश खुद पीड़ित बालक और उसके उसकी मां को डरा धमका रहा था और उनको जान से मारने की धमकी दे रहा था। इतना ही नहीं, भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो में तैनात डीएसपी परमेश्वर लाल को भी जज ने पीड़ित परिवार के पास भेजा और उनको जेल में डालने की धमकी दिलवाई है।
 | 
टेनिस खेलने के बहाने घर ले जाकर जज नें बच्चे से किया अप्राकृतिक सेक्स!

भरतपुर। बच्चे के साथ दुष्कर्म करने का मामला दर्ज होने के बाद राजस्थान हाई कोर्ट जोधपुर ने आदेश जारी करते हुए न्यायाधीश को निलंबित कर दिया है। न्यायालय में तैनात एक न्यायाधीश पर कक्षा 8 में पढ़ने वाले 14 वर्षीय बालक के साथ अप्राकृतिक सेक्स करने का आरोप लगा है। इसके बाद न्यायाधीश खुद पीड़ित बालक और उसके उसकी मां को डरा धमका रहा था और उनको जान से मारने की धमकी दे रहा था। इतना ही नहीं, भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो में तैनात डीएसपी परमेश्वर लाल को भी जज ने पीड़ित परिवार के पास भेजा और उनको जेल में डालने की धमकी दिलवाई है।

मामला मथुरा गेट थाना इलाके का है, जहां रहने वाला कक्षा आठवीं का छात्र जिसकी उम्र 14 वर्ष है, वह एक स्टेडियम में टेनिस खेलने जाता है। इस स्टेडियम में अधिकारी भी आते हैं और जज भी आते हैं। स्पेशल कोर्ट एसीबी केसेस में तैनात न्यायाधीश जितेंद्र गुलिया ने बच्चे को अपनी बातों में फंसा लिया और उसको बहला-फुसलाकर रोजाना अपने घर ले जाता था और उसके साथ गलत काम करता था। जब पीड़ित बालक के शरीर में दर्द होने लगा तो उसने पूरी व्यथा अपनी मां को बताई।

इतना ही नहीं कुछ वीडियो भी सामने आए हैं, जब न्यायाधीश जितेंद्र गुलिया पीड़ित परिवार के घर पहुंचा। वहां हाथ जोड़कर बच्चे व उसकी मां से माफी मांगता हुआ दिखाई दे रहा है। वीडियो में दिखाई दे रहा है कि न्यायाधीश जितेंद्र गुलिया पीड़ित बच्चे और उसकी मां से हाथ जोड़कर माफी मांग रहा है और कहता हुआ नजर आ रहा है कि मुझे माफ कर दो, जो हुआ उसे भूल जाओ।

टेनिस खेलने के बहाने घर ले जाकर जज नें बच्चे से किया अप्राकृतिक सेक्स!

मैं टेनिस खेलने जाता हूं। जहां न्यायाधीश जितेंद्र गुलिया भी टेनिस खेलने आते हैं। वह मुझे फुसलाकर अपने घर ले जाते थे, जहां मेरे साथ गलत काम करते थे। ऐसा काफी दिनों तक चला। इसके बाद मैंने अपनी मां को पूरी कहानी बताई। उसके बाद न्यायाधीश मुझे जान से मारने की धमकी दे रहे हैं और कह रहे हैं कि जो तेरे साथ किया वह तेरी मां के साथ भी कर दूंगा। और फिर सभी को जेल भेज दूंगा। इसलिए इस मामले के बारे में किसी को मत बताना।

पीड़ित की मां ने बताया कि मेरा बेटा टेनिस खेलने जाता था, वहां न्यायाधीश जितेंद्र गुलिया ने उसे अपनी बातों में फंसा लिया और अपने घर ले जाकर गलत काम करते थे। ऐसा कई दिन से चल रहा था। जब बच्चे के शरीर में दर्द हुआ तो उसने पूरी कहानी मुझे बताई। इसकी वजह से बच्चे का पढ़ाई में भी मन नहीं लग रहा था। हमें धमकी दी जा रही है। आज हम इतने डरे हुए हैं कि घर से बाहर भी नहीं जा सकते हैं। राजस्थान बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष संगीता बेनीवाल से फोन पर बात की गई, जिसमें उन्होंने बताया कि इस पूरे मामले को लेकर वो जिला कलेक्टर और जिला पुलिस अधीक्षक से बात करेंगी।

बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष गंगाराम पाराशर ने बताया कि एक नाबालिक बच्चे के साथ दुष्कर्म का मामला सामने आया है पीड़ित की मां ने मामला दर्ज करवा दिया है। एक न्यायाधीश पर बच्चे के साथ दुष्कर्म करने का आरोप है, इसकी जांच पुलिस कर रही है। मथुरा गेट थाना प्रभारी रामनाथ गुर्जर ने बताया कि एक नाबालिक बच्चे के साथ एक न्यायाधीश ने गलत काम किया है। पीड़ित पक्ष की तरफ से पुलिस में शिकायत दर्ज करा दी गई है और जांच जारी रही है।

Text Example

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह jansandeshonline@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।