Jansandesh online hindi news

क्या सिद्धू को पंजाब का अध्यक्ष बनाए जाने के फैसले को मानेंगे कैप्टन? मुश्किल में है कांग्रेस

 | 
क्या सिद्धू को पंजाब का अध्यक्ष बनाए जाने के फैसले को मानेंगे कैप्टन? मुश्किल में है कांग्रेस

नई दिल्ली

क्या पंजाब कांग्रेस का झगड़ा सुलझ गया है? अधिकांश लोगों का जवाब शायद न ही हो लेकिन कुछ लोग ऐसा भी सोच रहे हैं कि झगड़ा सिद्धू को लेकर नए एलान के बाद और बढ़ जाएगा। सिद्धू को लेकर कांग्रेस आलाकमान का जो भी फैसला होगा उस पर न चाहते हुए भी एक पक्ष की जीत और दूसरे की हार के रूप में उसे देखा जाएगा। कांग्रेस की कोशिश है कि चुनाव के पहले मामले को बेहतर तरीके से सुलझा लिया जाए। नवजोत सिंह सिद्धू दिल्ली पहुंच गए हैं तो वहीं पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर को लेकर कई खबरें हवा में तैर रही हैं।

मुलाकात के बाद क्या बनेगी बात

नवजोत सिंह सिद्धू की आज कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से थोड़ी देर पहले मुलाकात हुई। इस बैठक में हरीश रावत भी पहुंचे हैं जो पंजाब का झगड़ा सुलझाने वाली कमिटी के सदस्य भी हैं। माना जा रहा है कि इस मुलाकात के बाद नवजोत सिंह सिद्धू को पंजाब कांग्रेस का अध्यक्ष बनाने का पत्र पार्टी की ओर से जारी हो सकता है। पिछले दिनों ही नवजोत सिंह सिद्धू दिल्ली दौरे पर आए थे। जहां प्रियंका गांधी समेत दूसरे कई कांग्रेसी नेताओं से उनकी मुलाकात हुई थी। एलान से पहले ही सिद्धू को लेकर पंजाब में कई जगहों पर पोस्टर उनके समर्थकों की ओर से लगाए जा चुके हैं।

पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह पार्टी के इस फैसले से नाराज बताए जा रहे हैं। उन्होंने पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी तक को यह संदेश भिजवा दिया है कि यह फैसला सही नहीं है। कैप्टन अपने करीबी लोगों के साथ लगातार बैठक कर रहे हैं।सूत्रों की ओर से मिली जानकारी के अनुसार कल जैसे ही यह खबर सामने आई नाराज कैप्टन ने एक आपात बैठक बुलाई। 2017 में अपने बलबूते पार्टी को सत्ता में लाने वाले कैप्टन अमरिंद सिंह काफी नाराज है। कांग्रेस के नेताओं ने कल संकेत दिए कि बात बन गई है और पंजाब के झगड़े को सुलझा लिया गया है लेकिन बात सुलझी नहीं है। कैप्टन की नाराजगी के बाद कांग्रेस आलाकमान के सामने एक बार फिर मुश्किल खड़ी हो गई है।

बनाया गया है यह फॉमूला

पंजाब कांग्रेस के झगड़े को शांत करने के लिए जो फॉर्मूला तैयार हुआ है उसके मुताबिक नवजोत सिंह सिद्धू को प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने के साथ ही दो और कार्यकारी अध्यक्ष भी बनाए जाएंगे। कार्यकारी अध्यक्ष के लिए जो दो नाम आगे चल रहे हैं उसमें संतोष चौधरी और विजय इंदर सिंगला का नाम है। वहीं दूसरी ओर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रताप सिंह बाजवा को मैनिफेस्टो कमेटी का प्रमुख बनाया जा सकता है। इस फॉर्मूले के पीछे प्रशांत किशोर का भी अहम रोल है।